अवैध वसूली एवं मारपीट के खिलाफ थाना पहुँचे शब्जी विक्रेता

0

मझिआंव. गढ़वा :- गढ़वा बाजार समिति के अधिनस्थ मझिआंव बाजार समिति परिसर में नगर पंचायत के टैक्सी स्टैंड के ठेकेदार द्वारा अवैध रूप से वसूली करवाने का शब्जी विक्रेताओं ने जमकर विरोध किया।और लिये जा रहे राशि की रसीद की मांग की।

इस दौरान टैक्सी स्टैंड का रसीद देने पर उपेन्द्र कुशवाहा, संजू देवी अनिता देवी सहित अन्य कई फुटपाथ शब्जी विक्रेताओं ने नगर पालिका की राशि देने से मना कर दिया। इसके बाद गुस्साये अशोक सिंह द्वारा अपने आदमियों को बुलाकर सब्जी विक्रेताओं के साथ मारपीट करवाया गया तथा शब्जी को सड़क पर फेंक दिया गया। शब्जी विक्रेताओं एवं प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार इस दौरान लगभग आधा घंटा तक शब्जी बिक्रेताओं के साथ झड़प होता रहा।

सूचना पाते ही थाना पुलिस मौके वारदात पर पहुंची और स्थिति को संभाला ।तब तक गरीब सब्जी विक्रेताओं के साथ मारपीट कर चलते बने सभी शब्जी विक्रेता गोलबंद हो टोकरी के साथ थाना गये ।और अपनी आपबीती थाना प्रभारी को सुनाई। थाना प्रभारी सुधांशु कुमार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए नगर पालिका के नाम पर वसूली कर रहे अशोक सिंह, उनके पुत्र व 10-12 अज्ञात लोगों पर प्राथमिकी दर्ज कराई गई।

भुक्तभोगी शब्जी विक्रेता पलामू जिले के करकटा के पूर्व मुखिया उपेन्द्र कुशवाहा, संजू देवी, अनिता देवी, सोना देवी, बिंदा देवी, दीपक मेहता, बीरबल मेहता, सविता देवी, रामानुज मेहता एवं बुढीखाड़ ,खजूरी व गहिड़ी के किसान शब्जी बेंचने वाले लोगों ने बताया कि वे गरीब मजदूर वर्ग के किसान हैं। और इस लहलहाते धूप में पांव पैदल चलकर सब्जी बेचने के लिए मझीआंव बाजार आए हुए थे ।और शब्जी बेंचकर अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं।

इस सम्बंध में थाना प्रभारी सुधांशु कुमार ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है।

इस सम्बंध में नगर पालिका के कार्यपालक पदाधिकारी कमल कुमार सिंह ने बताया कि अभी तक ग्रामीण क्षेत्रों के शब्जी विक्रेताओं से टैक्स लेने का कोई सैरात नही हुआ है।केवल टैक्सी स्टैंड का सैरात हुआ है। टैक्सी स्टैंड का ठेकेदार बेवकूफ बनाकर भोले भाले सब्जी विक्रेता किसान से नगरपालिका के नाम पर राशि वसूला जा रहा है। जो कि सरासर अवैध है।कहा कि अभी तो मझिआंव बाजार समिति गढ़वा बाजार समिति के अधीन है।

इस संबंध में गढ़वा एसडीओ जियाउल अंसारी ने बताया कि मझिआंव बाजार समिति का अभी तक कोई सैरात या डाक नही हुआ है, अगर कोई वसूल रहा है तो गलत है।