आखिर क्यों बगैर बॉडीगार्ड व बुलेट प्रूफ गाड़ी के त्रिवेणी कोल के एजीएम महिला से मिलने गए थे!…. और हुई मौत!

0

रांची: महिला के घर से निकलते ही त्रिवेणी कोल माइंस के एजीएम की गोली मारकर हत्या कर दी गई है इस संदर्भ में तरह-तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म है कहा यह जा रहा है की आखिर क्यों त्रिवेणी सैनिक कोल माइनिंग प्राइवेट लिमिटेड के एजीएम गोपाल सिंह जो कि अपनी बुलेट प्रूफ गाड़ी और बॉडीगार्ड को छोड़कर महिला के घर औरतों से गए थे उसी दौरान लौटने के क्रम में उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई। बता दें कि यह कंपनी बड़कागांव में खनन का कार्य करती है।गोपाल सिंह मानव संसाधन विकास विभाग में उप महाप्रबंधक थे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बड़कागांव में त्रिवेणी सैनिक का विरोध को देखते हुए कंपनी की ओर से उन्हें बुलेट फ्रूप वाहन और जिला प्रशासन की ओर से एक बॉडीगार्ड दिया गया था। इसके बावजूद वह किस कारण ऑटो लेकर जुलू पार्क पहुंचे थे।

इधर दूसरी ओर खबरों के मुताबिक पुलिस के द्वारा हिरासत में लिए गए ऑटो चालक का कहना है कि मटवारी चौक पर उन्हें एक आदमी ने रुकवाया और कहां की जूलू पार्क जाना है जबकि ऑटो में पहले से एक आदमी सवार था। पहले सवारी को डिस्ट्रीक मोड़ पर छोड़ा और जुलू पार्क चला गया। उसके अनुसार जुलू पार्क स्थित पूर्णिमा सिंह के किराए के घर के बाहर रुकने को कह कर वह अंदर चला गया। उस वक्त घर के पास और तो खड़ा देख मकान मालकिन ने पूछा था कि आखिर यहां क्यों खड़े हैं उस वक्त उसने कहा कि आपके मकान के ऊपरी हिस्से में एक व्यक्ति टेंपो से उतर कर गए हैं। उसके बाद मालकिन चुपचाप घर के अंदर चली गई। बताया जाता है कि जैसे ही वे उस घर से निकले अज्ञात अपराधियों ने उनकी गोली मारकर हत्या कर दी।

अन्य खबरों के मुताबिक मृतक गोपाल सिंह के पत्नी का कहना है कि तबीयत ठीक नहीं होने की बात कह कार्यालय से चार बजे निकले और पांच बजे के करीब मटवारी स्थित माधव रेसीडेंसी अपने घर पर पहुंचे। आवास पर पहुंचने के बाद बॉडीगार्ड और चालक भेज खुद आराम करने चले गए। इसी दरमियान पति के फोन पर करीब पौने छह बजे किसी ने कॉल किया। उसके बाद वे एक घंटे में लौट आने की बात कहते हुए निकल पड़े।

बहरहाल मामला रहस्य पूर्ण लग रहा है।