आरोपी बेलाल की पत्नी ही थी सिर कटी लाश,सर उसके खेत में ही मिला!

0

रांची: पिछले 10 दिनों से पहेली बनी युवती की सिर कटी लाश का सिर बरामद कर लिया गया है। पुलिस ने चंदवे ग्राम में आरोपी शेख बेलाल के घर के पास स्थित खेत से युवती का सिर बरामद करने के साथ ही मामले का खुलासा हो गया है। युवती की शिनाख्त भी हो गई है। जो चान्हो थाना क्षेत्र के चटवल गांव की रहने वाली सूफिया प्रवीण है। उसके पति शेख बेलाल ने ही उसकी हत्या की थी। हालांकि अभी तक शेख बेलाल की गिरफ्तारी नहीं हुई है उसके गिरफ्तारी के साथ ही इसकी पुष्टि होने की संभावना है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार को पुलिस को अहम सुराग मिलने के बाद एसआईटी और पुलिस की टीम चंदवे गांव तालाब और खेत में डॉग स्क्वायड और एफएसएल के साथ पहुंची।सिर की तलाश को लेकर बेलाल की पत्नी और बेटे को भी साथ लेकर पहुंची। चंदवा इलाके में युवती का कटा सिर को नमक डालकर खेत में गाड़ दिया गया था।

बता दें कि चान्हो थाना क्षेत्र के चटवल गांव के एक दंपती ने सिरकटी लाश की पहचान अपनी बेटी के रूप में की थी। दंपति के मुताबिक लाश उनकी बेटी सुफिया परवीन की है जो लगभग दो माह से गायब थी।

पुलिस को दंपति ने बताया था कि उनकी बेटी सुफिया का बचपन में खाना बनाने के दौरान पैर जल गया था। रिम्स में जो शव उन्हें दिखाया गया है, उसके भी एक पैर में जले का निशान है।ऐसे में पुलिस भी अब यह मानकर तहकीकात आगे बढ़ा रही है कि यह लाश सूफिया परवीन की है।सूफिया के माता-पिता का डीएनए जांच के लिए भेजा गया है।

बताया जाता है कि नसूफिया परवीन ने लगभग 10 माह पहले बलसोकरा गांव निवासी खालिद के साथ प्रेम विवाह किया था। इसके बाद वह खालिद के साथ बलसोकरा स्थित उसके गांव में रह रही थी। खालिद पहले से ही शादीशुदा है।शादी के बाद दोनों के बीच किसी बात को लेकर विवाद कायम हो गया और इसी बीच सूफिया के जीवन में शेख बिलाल की एंट्री हुई। उससे मोहब्बत के बाद वह अपने पति को छोड़कर शेख बेलाल के साथ ही रहने लगी।

बता दें कि बेलाल पहले भी हत्या के एक मामले में जेल जा चुका है।

बता दें कि गत 3 जनवरी को पुलिस ने ओरमांझी थाना क्षेत्र स्थित जिराबार पलाश पतरा जंगल से एक युवती का सर कटा शव बरामद किया था. उसकी हत्या निर्ममता पूर्वक की गयी थी और उसके निजी अंगों पर धारदार हथियार से जख्म के निशान पाये गये थे.

शेख बेलाल रांची के पिठौरिया थाने इलाके के चंदवे बस्ती का रहने वाला है।9 साल पहले पिठौरियों के चंदवे गांव में कुख्यात राजा जावेद उर्फ बंबइया जावेद की हत्या भीड़ ने कर दी थी।इस मामले में चंदवे गांव के ही मोजिब खान, शेख बेलाल खान, सत्तार खान, शेर अली और बबलू टाइगर उर्फ बबलू मुंडा का नाम सामने आया था।मोजिब खान से रुपये के विवाद में बंबइया की हत्या कर दी गई थी।शेख बेलाल हत्या, आर्म्स एक्ट सहित कई मामलों में जेल जा चुका है।2011 में शेख बेलाल तब चर्चा में आया था, जब उसका नाम कुख्यात अपराधी जावेद मुंबइया की हत्या में सामने आया था।जावेद मुंबइया की हत्या रांची के चंदवे इलाके में कर दी गई थी। जावेद मुंबइया मुंबई में रहकर अपराध की वारदातों को अंजाम देता था। साल 2009 में उसने मुंबई के एक हीरा कारोबारी के यहां से एक करोड़ का हीरा लेकर रांची भाग आया था, जिसके बाद मुंबई पुलिस ने उसे रांची से दबोचा।

बता दें कि ओरमांझी पुलिस ने 3 जनवरी को जीराबार गांव के पलास पतरा जंगल से युवती की सिरकटी लाश बरामाद की थी।युवती का सिर खोजने के लिए दिनभर पुलिस छानबीन करती रही, लेकिन पता नहीं चला था।युवती के शरीर पर कपड़े नहीं थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here