एमजीएम अस्पताल की दशा और दिशा सुधारने के लिए स्वास्थ्य मंत्री ने कमर कसी,चार कमेटियां गठित

0

जमशेदपुर: एमजीएम अस्पताल की दशा एवं दिशा सुधारने के लिए झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कमर कस ली है। इसी कड़ी में अस्पताल को सुव्यवस्थित ढंग से चलाने के लिए विशेषज्ञों की चार प्रकार की टीम तैयार की गई है। टीम ‘ए’ में मानव संसाधन एवं कार्यरत बल की समीक्षा कर समुचित मानव संसाधन की उपलब्धता पर मंतव्य देगी। इस समिति में एनएचएम के मानव संसाधन और वित्त कोषांग के प्रतिनिधि शामिल रहेंगे।

टीम ‘बी’ यह समिति आवश्यक आधारभूत संरचना और आवश्यक मरम्मत की समीक्षा कर मंतव्य देगी। इस टीम में भी एनएचएम के आधारभूत संरचना एवं वित्त कोषांग के प्रतिनिधि शामिल रहेंगे।

टीम ‘सी’ यह समिति अस्पताल की स्वच्छता एवं साफ सफाई की समीक्षा कर मंतव्य देगी। इस टीम में एनएचएम के क्वालिटी एश्योरेंस सेल के प्रतिनिधि रहेंगे।

टीम ‘बी’ यह समिति पिछले 2 वर्षों का डिजीज बर्डेन लोड का अध्ययन कर मंतव्य देगी इसमें एनएचएम के आईडीएसपी सेल के निधि शामिल रहेंगे।

समिति पूरे मामलों का अध्ययन करने के साथ ही अपेक्षित सुधार और वित्तीय भार का आकलन कर प्रस्ताव भेजेगी।

इसके अलावा जिला स्तर पर उपायुक्त पूर्वी सिंहभूम के नेतृत्व में 11 सदस्य समिति का गठन किया गया है जो उपरोक्त चारों कमेटियों को सहयोग करेगी और परामर्श देगी।

11 सदस्य समिति में उपायुक्त पूर्वी सिंहभूम, सरकारी चिकित्सक डॉ ए के लाल, डॉक्टर शाहिद पाल, डॉक्टर जी सी मांझी, डॉ वीणा सिंह, सेवा निर्मित सिविल सर्जन डॉ श्याम कुमार झा, आईएमए के सदस्य डॉक्टर सौरभ चौधरी, जुस्को महाप्रबंधक कैप्टन धनंजय मिश्रा, भवन निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता, अस्पताल प्रबंधक निशांत कुणाल, क्वालिटी मैनेजर सदर अस्पताल प्रेमा मरांडी शामिल हैं।

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने लंबित पड़ी सारी निविदाओं को तत्काल प्रभाव से अगले आदेश तक स्थगित कर दिया है।स्टेट फार्मेसी काउंसिल के मनोनीत अध्यक्ष डॉक्टर त्रिभुवन प्रसाद बरनवाल की सेवा तत्काल प्रभाव से समाप्त करने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही नए अध्यक्ष के चुनाव संबंधित प्रक्रिया भी शुरू करने के निर्देश दिए हैं।