झारखंड की 108 एंबुलेंस सेवा राह चलते भीखमंगो के लिए नहीं! 3 दिन से दुर्घटना में घायल अजय पड़ा है सड़क के किनारे

0

वार्ता स्पेशल: धनबाद सराय ढेला रोड पर गिरिडीह के रहने वाले अजय कुमार एक ऑटो की टक्कर से घायल होकर सड़क पर 3 दिन से पड़े हुए हैं लेकिन उनकी कोई सुध लेने वाला नहीं है। शरीर पर चोट के निशान हाथ और पैरों में सूजन है ठीक से भोजन नहीं मिलने के कारण हुआ कमजोर हो गया है आपने से उठ पाने में भी अक्षम है हालांकि स्थानीय दुकानदारों ने उसे थोड़ा बहुत खाना देखकर किसी तरह जिंदा रखा है। आसपास के दुकानदारों का कहना है कि इस संदर्भ में 108 नंबर पर फोन किया गया था लेकिन उन्हें कहा गया कि यह एंबुलेंस सेवा राह चलते भीखमंगों के लिए नहीं है। उसके बाद लोगों ने घायल व्यक्ति को सड़क से उठाकर दुकान के बगल में पनाह दे दी है।

वहीं के एक दुकानदार ईश्वर प्रसाद ने कहा कि अजय कुमार पिछले 3 दिनों से यहां पड़े हुए हैं इनकी हालत खराब होती जा रही है इलाज के लिए पीएमसीएच को भी सूचित किया गया था लेकिन वहां से भी कोई पहल नहीं हुई। दुकानदारों ने आपसी पहल से कुछ उसे खिला पिला कर जीवित रखे हुए हैं। ईश्वर प्रसाद ने यह कहा कि अजय को इलाज की जरूरत है लेकिन सरकारी व्यवस्था इलाज के लिए इंकार कर चुकी है। वैसी स्थिति में अब जिले के वरीय अधिकारियों से ही आस है।

वहीं घायल अजय कुमार का कहना है कि शुक्रवार शाम को सड़क पार करने के समय वह एक ऑटो वाले की चपेट में आ गया ऑटो वाले ने उन्हें ही उल्टा धौंस जमाकर वहां से फरार हो गया इसके बाद से वह यहां सड़क पर बेसुध पड़ा हुआ है। सही भोजन न मिलने के कारण वह कमजोर हो चुका है और स्वयं उठकर चलने में भी वह अक्षम है उसे इलाज की तत्काल जरूरत है।

वहीं अन्य दुकानदार मुकेश कुमार का कहना है कि लाचार गरीब इंसान के लिए ही तो सरकारी योजनाएं बनी है लेकिन इन्हें देखकर कैसी बेरुखी कर रहे हैं क्या सरकार से अपील करनी होगी आखिर स्वास्थ्य विभाग का क्या वजूद है।

बहरहाल आयुष्मान योजना और 108 नंबर एंबुलेंस सेवा और पीएमसीएच से लेकर धनबाद के सदर अस्पताल तक इस बेसहारे गरीब के लिए महज मजाक साबित हो रही है।