कब तक कलंकित होगा शिक्षा विभाग? राज्य में तीसरी नाबालिग छात्रा गर्भवती

0

चतरा : यदि शिक्षा की बात करें तो यहां शिक्षा का घोर कमी है। गांव-देहात व पिछड़ा इलाका क्षेत्र होने के कारण जन-जन में शिक्षा का काफी अभाव है। बड़े ही शौख से बेटियों को जन्म देते हैं, उसके माता-पिता की बच्ची बड़ी होकर माता-पिता के अलावे प्रखण्ड व जिले का भी नाम रौशन करेगी, किन्तु बेटियों के माता-पिता को क्या पता कि शिक्षा मिले या न मिले, नाम रौशन हो या न हो,किन्तु बेटियों के जीवन में बदनामी तो अवश्य ही मिलेगी।

अभिभावक अपने बेटियों को अच्छी शिक्षा हासिल करने के लिए सरकारी विद्यालय में भेजते हैं, लेकिन सरकारी विद्यालय पर इनदिनों प्रश्न चिन्ह लगता आ रहा है। खबर है,सिमरिया में अनुसूचित जाति विद्यालय की। प्राप्त जानकारी के अनुसार चतरा जिले के सिमरिया में अनुसूचित जाति विद्यालय की 14 वर्षीय आठवीं कक्षा की छात्रा के गर्भवती होने की ख़बर है। वह छात्रा बिना ब्याही ही गर्भवती हो गयी। ऐसी शर्मनाक मामला से पूरे शिक्षा विभाग में अफरा-तफरी मच गई है।

बता दें कि इससे पहले भी झारखंड राज्य के गढ़वा जिले के कस्तूरबा आवासीय विद्यालय में इस तरह का एक नहीं बल्कि 2 मामला सामने आ चूका है। एक छात्रा ने बच्चे को जन्म भी दिया है। दूसरे में छात्रा का गर्भपात करा दिया गया।