केंद्र की नीति का असर: चीन से कारोबार समेट भारत लौटेगी लावा मोबाइल्स

0

मोबाइल उपकरण बनाने वाली घरेलू कंपनी लावा इंटरनैशनल ने चीन को बड़ा झटका दिया है। घरेलू ब्रांड लावा ने शनिवार को अपने पूरे मोबाइल आरएंडडी और मैन्युफैक्चरिंग को अगले छह महीनों में चीन से भारत में स्थानांतरित करने की घोषणा की और साथ ही कंपनी देश में पांच साल के भीतर लगभग 800 करोड़ रुपए निवेश करेगी। भारत में हाल में किए गए नीतिगत बदलावों के बाद कंपनी ने यह कदम उठाने का फैसला किया है। कंपनी ने कहा है कि वह भारत से दुनिया के देशों को करेगी निर्यात।

लावा इंटरनैशनल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक हरी ओम राय ने कहा, ‘उत्पाद डिजाइन के क्षेत्र में चीन में हमारे कम से कम 600 से 650 कर्मचारी हैं। हमने अब डिजाइनिंग का काम भारत में स्थानांतरित कर दिया है. भारत में हमारी बिक्री जरूरतां को स्थानीय कारखाने से पूरा किया जा रहा है.’।

‘हम चीन के अपने कारखाने से कुछ मोबाइल फोनों का निर्यात दुनियाभर में करते रहे हैं, यह काम अब भारत से किया जाएगा।’ राय ने कहा, ”मेरा सपना है कि चीन को मोबाइल उपकरण निर्यात किए जाएं। उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन योजना से हमारी स्थिति में सुधार आएगा। इसलिए अब पूरा कारोबार भारत से ही किया जाएगा।”

लावा इंटरनैशनल ने पिछले सप्ताह अपने नोएडा कारखाने में 20 प्रतिशत उत्पादन क्षमता के साथ परिचालन फिर से शुरू कर दिया है। लावा अपने फोन का 33 प्रतिशत से अधिक निर्यात मैक्सिको, अफ्रीका, दक्षिण पूर्व एशिया और पश्चिम एशिया जैसे बाजारों में करती है।