कोरोना काल में झारखंड पुलिस बनी मिसाल,सीएम आपदा कोष में जमा किए 8.30 करोड़

0

रांची: वैश्विक महामारी कोरोना संकटकाल से उबरने के लिए मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में झारखंड पुलिस के सभी पदाधिकारियों एवं कर्मियों ने अपना 1 दिन का वेतन कुल 8.30 करोड़ रुपये जमा कर एक मिसाल कायम कर दिया। शुक्रवार को मंत्रालय में अपर मुख्य सचिव एल खियांग्ते व पुलिस महानिदेशक एमवी राव झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन से मिले भी और उन्हें मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष हेतु 8.30 करोड़ रुपये की राशि का चेक भेंट किया।

इस दौरान मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि कोरोना से संकट की घड़ी में आपसी सहयोग काफी जरूरी है लोगों के हितों की रक्षा हेतु सक्षम व्यक्तियों और संस्थानों को आगे आकर मदद करने की जरूरत है।इस मौके पर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) पीआरके नायडू, विशेष शाखा के अपर पुलिस महानिदेशक आरके मल्लिक, अपर पुलिस महानिदेशक (अभियान) मुरारीलाल मीना सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।

बता दें कि एक ओर मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम और इस संकट से जनता के सहयोग के लिए मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष निधि में दान देने की अपील किए जाने के पश्चात पुलिस मुख्यालय द्वारा आरक्षी स्तर से लेकर सभी स्तर के पुलिस पदाधिकारियों तक के एक दिन के वेतन की कटौती कर मुख्यमंत्री राहत कोष निधि में दान किये जाने का निर्णय लिया गया और दूसरी ओर झारखंड के डीजीपी एमवी राव ने उदारता पूर्वक दान देने की अपील करते हुए राज्य के सभी पुलिसकर्मियों से कहा था कि पूरा विश्व कोरोना का कहर झेल रहा है। कई लोग अपनी जान गंवा चुके हैं कई गंभीर रूप से संक्रमित हैं। ऐसी स्थिति में संकट काल में कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में केंद्र एवं राज्य सरकार उपलब्ध संसाधनों से जो भी संभव है कर रही है। लेकिन इस महामारी के संक्रमण को नियंत्रित करने और आम लोगों को हर तरह की सहायता उपलब्ध कराने के लिए और अधिक संसाधनों की जरूरत है। इसी के मद्देनजर झारखंड पुलिस ने बीते 31 मार्च को बड़ी घोषणा की थी।