खड़गपुर रेल मंडल: बिना परिणाम घोषित किए रद्द ग्रुप ‘डी’से ग्रुप ‘सी’प्रमोसन परीक्षा की तिथि फिर घोषित, कोरोना काल में रेलकर्मी भयभीत…….

0

खड़गपुर:( रिपोर्ट सतीश सिन्हा की) भारत में कोरोना महामारी इस कदर पांव पसार चुकी है कि चारों और कोहराम मचा हुआ है। अस्पतालों में जगह नहीं है दवाई नहीं है ऑक्सीजन नहीं है। श्मशान में लाश अपनी मोक्ष की प्राप्ति के लिए कतार में है। हर कोई परेशान है कोरोना से अपनी जान बचाने के लिए। वहीं इस वक्त कोरोना की वजह से 10वी ,12व और नीट का एग्जाम कैन्सिल कर दिया गया स्कूल कॉलेज सभी बंद है तमाम परीक्षाएं रद्द कर दी गई है।इसके बावजूद खड़गपुर रेल मंडल में ग्रुप ‘सी’ से ग्रुप ‘डी’ में प्रमोसन की परीक्षा कोविड काल में 06 मई 2021 को घोषित कर दी गई।

जबकि शादी विवाह में भी लोगों के शामिल होने पर संख्या निर्धारित कर दी गई है।सुप्रीम कोर्ट देश में लॉकडाउन लगाने पर विचार करने को केंद्र सरकार को कह रहा है। चारों और कोहराम मचा हुआ है। रेल प्रबंधन प्रशासन भी कोरोना भयानक मानते हुए कोरोना से सुरक्षित रहने का दिशानिर्देश जारी कर चुकी है। साथ ही 50% रोस्टर के साथ कार्य करने की भी आदेश महाप्रबंधक दक्षिण पूर्व रेलवे के द्वारा दिया जा चुका है।

फिर से जारी नोटिस

लेकिन ठीक इसके विपरीत खड़गपुर रेल मण्डल मे 108 विद्युत विभाग के ग्रुप. डी कर्मियो की ग्रुप.सी के पद पर प्रमोशन के लिए लिखित परीक्षा दिनांक,06/05/2021 को खड़गपुर रेल मंडल के द्वारा नोटिस जारी कर लिए जाने की बात कहीं जा रही है। इस नोटिस के बाद रेल कर्मियों में हड़कंप मच गया है। कोरोना काल में इसे आ बैल मुझे मार वाली कहावत लोगों के द्वारा कही जा रही है। रेलकर्मी दबे जुबान से या कहने को मजबूर है कि यह तो अपने मौत के लिए खुद गड्ढा खोदने के समान है।

पहले यह परीक्षा ली जा चुकी है,बगैर रिजल्ट के फिर परीक्षा

और तो और खास बात यह है कि रेल प्रशासन की लापरवाही इसी से लगाया जा सकता है कि उक्त प्रमोशन की परीक्षा विगत कई वर्ष पहले दिनांक,22/03/2019 को ली जा चुकी है लेकिन उक्त परीक्षा का परिणाम घोषित किए बिना बिना उचित कारण के उक्त परीक्षा को रद्द करने के बाद पुनः इस महामारी के दौर में परीक्षा कराना रेलकर्मियो के जीवन से सरासर खिलवाड़ और कोविड-19 प्रोटोकॉल का खुलेआम उल्लंघन है।

सूत्रों के अनुसार इस लिखित परीक्षा में जो एक सौ आठ लोग शामिल होंगे वो सभी बंगाल के विभिन्न क्षेत्र से आने वाले परीक्षार्थी होंगे जैसे- गार्डेनरीच,शालीमार, संतरागच्छी,उल्बेरिया,मचेदा, आंदुल, पचकुडा,खड़गपुर, गिदनी, बालासोर से लेकर पूरे खरकपुर मंडल के सैकड़ों स्टेशन के कर्मी को शामिल होना है,सभी परीक्षार्थी डरे हुए है लेकिन रेल प्रशासन के खिलाफ मुंह खोलने से डर भी रहे है रेल कर्मियों का कहना है कि हम तो संक्रमित होंगे ही साथ ही साथ परीक्षा के बाद जो संक्रमण हम लेकर जाएंगे उससे हमारे पूरे परिवार को संक्रमण का खतरा रहेगा।