गरीबों के निवाले पर डाका, माफिया डकार गए अनाज

- Advertisement -

चतरा :- कोरोना संकट के दौरान केंद्र सरकार ने गरीबों को मुफ्त अनाज उपलब्ध तो कराया था लेकिन अनाज माफियाओं की कारगुजारीओं से गरीबों तक अनाज पहुंचा ही नहीं। यह मामला है चतरा जिला के कुंदा प्रखंड का। इस पूरे प्रखंड में मई महीने में गरीबों को भारत सरकार द्वारा दी जाने वाली मुफ्त में अनाज नहीं मिल पाया।अनाज माफियाओं द्वारा ही अनाज घटक कर लिया गया है। हालांकि इस मामले में जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने जांच का आश्वासन दिया है।

झारखंड के अति उग्रवाद प्रभावित प्रखंडों में से एक है चतरा जिला का कुंदा प्रखंड। इस प्रखंड के सभी पंचायतों में मई महीने का चावल भारत सरकार द्वारा आवंटित किया गया था जो गरीबों तक मुफ्त में देना था। लेकिन आपूर्ति पदाधिकारी, गोदाम प्रबंधक एवं अनाज माफियाओं के मिलीभगत से पूरे 1 महीने का अनाज घटक कर गया है।

कुंदा प्रखंड के माँझीपारा गांव के अनुसूचित जाति परिवार के लोगों का कहना है कि अनाज नहीं मिलने के कारण परिवार में भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है।उन्होंने बताया कि डीलर के द्वारा अनाज नहीं दिया गया और का राशन कार्ड पर भी मई महीने का अनाज नहीं चढ़ाया गया है। इससे स्पष्ट है कि पूरे 1 महीने का अनाज गरीबों तक नहीं पहुंच पाया।

बताया जाता है कि अनाज माफियाओं की मिलीभगत से सरकारी अनाज गोदामों से ही चावल एवं अन्य खाद्य पदार्थों का अवैध रूप से बिक्री कर दी जाती है।इस खेल में अनाज माफियाओं का पूरा नेटवर्क काम करता है। स्थानीय मुखिया का कहना है कि इस मामले को लेकर उपायुक्त सहित जिले के सभी पदाधिकारियों को पत्र लिखा गया है।लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं है!

कुंदा प्रखंड के तत्कालीन आपूर्ति पदाधिकारी सह बीडीओ श्रवण राम ने इस मामले में कुछ भी बताने से इंकार किया है। गौरतलब है कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने करोना संकट के दौरान प्रत्येक गरीब परिवारों को मुफ्त में राशन देने का वायदा किया था और उसी के तहत प्रत्येक गरीब परिवारों को अनाज उपलब्ध नहीं कराया गया ।लेकिन अनाज माफियाओं की मिलीभगत से अनाज गरीबों के तक नहीं पहुंच पाए हैं ।अब मामला संज्ञान में आने के बाद अधिकारी एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप कर जांच की बात कह रहे हैं। लेकिन इतना तय है कि जब तक ग्रामीण क्षेत्रों में आशिक्षा का अभाव रहेगा ऐसा तस्वीर देखने को मिलेगा।

बाईट 01 : ओमप्रकाश यादव, कार्डधारी।

बाईट 02 : उर्मिला देवी, कार्डधारी।

बाईट 03 : बसंती देवी, कार्डधारी।

बाईट 04 : महेंद्र भुईयां, कार्डधारी।

बाईट 05 : रंजीत कुमार भोक्ता, झामुमो नेता।

बाईट 06 : अनिल कुमार यादव, जिला आपूर्ति पदाधिकारी।

- Advertisement -

READ THIS ALSO

Related Articles

बच्चे की पोखरा मे डूबने से मौत, परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल

गढ़वा : जिले के कांडी थाना क्षेत्र अंतर्गत घोड़दाग गांव निवासी अवध यादव का बड़ा पुत्र 8 वर्षीय कृष्ण कुमार की मौत...

कोवैक्सिन कोरोना के खतरनाक डेल्टा प्लस वैरिएंट पर भी कारगर साबित

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने सोमवार को दावा किया है कि कोवैक्सिन कोरोना के खतरनाक डेल्टा प्लस वैरिएंट पर भी...

विवाहिता बेटी के पूर्व प्रेमी को पीटना पड़ा महंगा,पिता पुत्री माता व भाई पर जानलेवा हमला,मृत समझ छोड़ा,एमजीएम में…

चाईबासा: नीमडीह थाना अंतर्गत डुमरी में विवाहित पुत्री के पूर्व प्रेमी को प्रेमिका के पति के द्वारा पिछले कुछ दिन पूर्व पीटना महंगा पड़ा।...
- Advertisement -

Latest Articles

बच्चे की पोखरा मे डूबने से मौत, परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल

गढ़वा : जिले के कांडी थाना क्षेत्र अंतर्गत घोड़दाग गांव निवासी अवध यादव का बड़ा पुत्र 8 वर्षीय कृष्ण कुमार की मौत...

कोवैक्सिन कोरोना के खतरनाक डेल्टा प्लस वैरिएंट पर भी कारगर साबित

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने सोमवार को दावा किया है कि कोवैक्सिन कोरोना के खतरनाक डेल्टा प्लस वैरिएंट पर भी...

विवाहिता बेटी के पूर्व प्रेमी को पीटना पड़ा महंगा,पिता पुत्री माता व भाई पर जानलेवा हमला,मृत समझ छोड़ा,एमजीएम में…

चाईबासा: नीमडीह थाना अंतर्गत डुमरी में विवाहित पुत्री के पूर्व प्रेमी को प्रेमिका के पति के द्वारा पिछले कुछ दिन पूर्व पीटना महंगा पड़ा।...

स्कूटी को टेलर ने कुचला,सवार की दर्दनाक मौत

जमशेदपुर: बर्मामाइंस थाना अंतर्गत बर्मामाइंस मुख्य दुर्गा पूजा मैदान के गोल चक्कर के पास अनियंत्रित डंपर संख्या जेएच 05 बी 65039 स्कूटी सवार...

भारत का पहला शहर जिसनें 100% वैक्सीनेशन का लक्ष्य किया पूरा,7 महीने मे 18 लाख से ज्यादा वैक्सीन डोज लगाए

ऐजेंसीःओडिशा का भुवनेश्वर शहर 100% वैक्सीनेशन करने वाला देश का पहला शहर बन गया है। यानी यहां 18 साल से ज्यादा उम्र...