घर लौट आये भगवान, लोगों में ख़ुशी की लहर

0

संवाददाता-विवेक चौबे

गढ़वा : बिन भगवान के मंदिर सुना-सुना सा लग रहा था। इस गम में पूरा गांव गमगीन था। ग्रामीणों के चेहरे से मुस्कान चली गयी थी। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि चोरी गयी मूर्ति फिर दुबारे नहीं प्राप्त होगी। जी हां,हम बात कर रहे हैं कांडी थाना क्षेत्र अंतर्गत सरकोनी पंचायत के सेमौरा गांव की।

बता दें कि उक्त गांव में स्थित राधा कृष्ण मंदिर से गत 4 जनवरी की रात चोरों द्वारा अष्टधातु से निर्मित व बेशकीमती राधा-कृष्ण की मूर्ति चोरी कर ली गयी थी। उक्त मंदिर से चोरी गयी मूर्ति की शीघ्र बरामदगी के लिए प्रखण्ड के हजारों लोगों ने जोरदार आंदोलन भी किया था। जबकि पुलिस ने कानून के डंडे चलाकर,त्वरित कार्यवाई करते हुए आठ दिन के भीतर ही मूर्ति बरामद कर लेने में सफल रही थी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पलामू जिला के पांकी थाना क्षेत्र अंतर्गत हुरलौंग गांव के एक घर से दोनों मूर्तियों को बरामद किया गया था। वहीं कानूनी प्रक्रिया पूर्ण होने के पश्चात कुल 49 दिनों के बाद उक्त मंदिर के वर्तमान सेवायत- सूर्यदेव सिंह ने कई गणमान्य लोगों के साथ कांडी थाना पहुंचकर रविवार को थाना प्रभारी- शौकत खान से दोनों मूर्तियों को प्राप्त किया।

वहीं थाना प्रांगण में एकत्रित लोगों ने मूर्ति बरामदगी में अहम भूमिका निभाने वाली पुलिस प्रशासन के लिए जिन्दाबाद के नारे भी लगाए। शोभा यात्रा निकाल कर, बाजे-गाजे व जयकारा लगाते हुए भगवान राधा-कृष्ण की मूर्ति को मंदिर प्रांगण तक लाया गया। शोभायात्रा में शामिल लोग एक दूसरे को अबीर गुलाल लगा कर खुशी का इजहार करते देखे गए।

वहीं मंदिर प्रांगण में सुबह से ही सैकड़ों युवतियों व महिलाओं के द्वारा भजन-कीर्तन करते हुए भगवान के भव्य स्वागत के लिए प्रतीक्षा कर रही थीं। मूर्ति प्राप्त होते ही पूरे प्रखण्ड भर में खुशी का लहर दौड़ गया। वहीं पुजारी- हरिद्वार पाण्डेय व उदय पाण्डेय के द्वारा विधि-विधान से पूजा-अर्चना के पश्चात रविवार को भगवान राधा-कृष्ण की मूर्ति स्थापित की गई।

हालाकि अभी चल रूप में ही मूर्ति स्थापित कि गयी है। मौके पर- पूर्व बीस सूत्री अध्यक्ष- रामलला दुबे,बैजनाथ पाण्डेय,उषा कुंवर,रामेश्वर दुबे,रेशमी कुंवर,संजय पाण्डेय,सहित हजारों की संख्या में लोग उपस्थित थे। वहीं सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कांडी थाना प्रभारी- शौकत खान व बरडीहा थाना प्रभारी- राम अवतार अपने दल-बल के साथ तैनात थे।