जनहित में झारखंड सरकार ने 11 ब्रांडो पर 12 महीने के लिए लगाया प्रतिबंध… जानें

0

जमशेदपुर: जन स्वास्थ्य के हित में झारखंड सरकार ने 11 ब्रांडों (रजनीगंधा, विमल, शिखर, पान पराग, दिलरुबा, राजनिवास, सोहरत, मुसाफिर, मधु, बहार, पान पराग प्रीमियम) के पान मसाला की बिक्री, भंडारण, विनिर्माण पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया है।

2. स्वास्थ्य विभाग ने खाद्य संरक्षा अधिनियमों के तहत उपरोक्त 11 ब्रांडों को 12 महीने के लिए प्रतिबंधित किया है।

3. विभिन्न जिले से संग्रहित 41 पान मसाला के नमूनों के जांच के दौरान सभी 11 ब्रांडों में प्रतिबंधित मैग्नीशियम कार्बोनेट पाया गया।

4. मैग्निशियम कार्बोनेट से हृदय की बीमारी सहित अनेक तरह की गम्भीर बीमारी होती है।

5. पान मसाला पर प्रतिबंध लगाने वाला देश का तीसरा राज्य बना झारखंड….इससे पूर्व महाराष्ट्र और बिहार ने विभिन्न ब्रांडों के पान मसाला पर प्रतिबंध लगाया हुआ है।

माननीय स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने बताया कि पान मसाला पर प्रतिबंध लगाने वाला झारखंड देश का तीसरा राज्य बना है। पान मसाला के लिए फ़ूड सेफ्टी एक्ट 2006 में दिए गए मानक के मुताबिक मैग्नीशियम कार्बोनेट मिलाया जाना प्रतिबंधित है। अतः जन स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए यह प्रतिबंध फिलहाल एक वर्ष के लिए लगाया गया है।

श्री गुप्ता ने बताया कि इस प्रतिबंध से कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने में भी मदद मिलेगी, क्योंकि पान मसाला खाकर लोग यत्र तत्र थूकते हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा सभी जिलों में पान मसाला के प्रतिबंध को राज्य में सख्ती से लागू करवाया जाएगा।