जमशेदपुर की ओर से ‘बलूचिस्तान का काला दिवस’ कार्यक्रम मनाया गया, जिसमें पाकिस्तान के कब्जे वाले बलूचिस्तान को आजाद कराने की मांग उठी

0

झारखंड (जमशेदपुर)- बिष्टुपुर स्थित डा. श्रीकृष्ण सिन्हा संस्थान में हिंद बलोच फोरम जमशेदपुर की ओर से ‘बलूचिस्तान का काला दिवस’ कार्यक्रम मनाया गया, जिसमें पाकिस्तान के कब्जे वाले बलूचिस्तान को आजाद कराने की मांग उठी। इस मौके पर संस्था के अध्यक्ष हरिबल्लभ सिंह आरसी व महासचिव धर्मचंद्र पोद्दार समेत अनेक वक्ताओं ने अपने विचार रखे। इसमें स्पष्ट रूप से कहा गया कि पाकिस्तान ने आज के ही 27 मार्च 1948 को बलूचिस्तान पर कब्जा कर लिया था। यह हिंदुओं के लिए इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यहीं मां हिंगलाज भवानी का मंदिर है।

यह मंदिर 51 शक्तिपीठ में से एक है। हम भारतवासी वहां मां भवानी का दर्शन करने को जाना चाहते हैं, लेकिन यह तभी संभव होगा, जब बलूचिस्तान आजाद हो। भारतीय जन महासभा के संरक्षक राजेंद्र कुमार अग्रवाल ने कहा कि जो देश हमेशा स्वतंत्र रहा हो, उस पर कोई दूसरा देश सैन्य बल का प्रयोग कर कब्जा कर ले, यह अत्यंत दुखद है। इस प्रकार की कार्रवाई की हम भारतवासी घोर निंदा करते हैं। आज जो बलूचिस्तान में अनेक क्रांतिकारी संगठन अपने देश की आजादी के लिए क्रांति की ज्वाला जलाए हुए हैं, हम उनका पुरजोर नैतिक समर्थन करते हैं। धर्मचंद्र पोद्दार ने कहा कि पाकिस्तान का निर्माण 14 अगस्त 1947 को हुआ था। मतलब इसका जन्म हुआ था और जिसका जन्म होता है उसकी मृत्यु भी निश्चित है। पाकिस्तान पहले से नहीं था। यह बनाया गया था, इसलिए इसका अंत भी निश्चित है।