Advertisement

जानें कैसे चंद मिनट पहले हटी राष्ट्रपति शासन और बनी बीजेपी+एनसीपी की सरकार

- Advertisement -
- Advertisement -

महाराष्ट्र : नयी सरकार के गठन से चंद मिनट पहले राज्य में लगा राष्ट्रपति शासन हटा लिया गया था। सुबह बीजेपी और एनसीपी की सरकार बनने की बात जब मीडिया पर आने लगी तो लोग इसे पहले तो फेक समझे यहां तक कि कांग्रेस और शिवसेना ने भी इसे फेक न्यूज़ ही समझा लेकिन हकीकत कुछ और था जिसने सभी को चौंका दिया बीजेपी ने महाराष्ट्र में पॉलिटिकल स्ट्राइक कर दिया. महाराष्ट्र में जिस वक्त ज्यादातर लोग नींद के आगोश में उस वक्त राष्ट्रपति शासन हटाया गया। महाराष्ट्र में 23 नवंबर को तड़के पांच बजकर 47 मिनट पर राष्ट्रपति शासन हटाए जाने के बाद बीजेपी और अजित पवार की सरकार ने प्रभार संभाला।

- Advertisement -

- Advertisement -

गृह मंत्रालय की अधिसूचना के मुताबिक मुताबिक, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार सुबह राष्ट्रपति शासन को समाप्त करने की घोषणा की।इस आशय का राज-पत्र केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला ने सुबह 5बजकर 47 मिनट पर जारी किया।

कोविंद द्वारा हस्ताक्षरित राज-पत्र के अनुसार, ”संविधान के अनुच्छेद 356 के खंड (2) द्वारा प्रदत्त शक्तियों के अनुसार, मैं भारत का राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, मेरे द्वारा 12 नवंबर 2019 को महाराष्ट्र राज्य के संबंध में की गई घोषणा को निरस्त करता हूं, जो 23 नवंबर 2019 से प्रभावी है।”राष्ट्रपति शासन हटने के बाद राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने भारतीय जनता पार्टी के देवेंद्र फड़णवीस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अजित पवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री पद की शपथ दिलवाई.

विदित है कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के परिणाम घोषित होने के 18 दिन बाद भी कोई राजनीतिक हल नहीं निकल सकने की स्थिति में 12 नवंबर को राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया था.
सूत्रों का कहना है कि महाराष्ट्र में नयी सरकार का समीकरण बेहद गोपनीय ढंग से बना। मीडिया में भी किसी को कानों-कान खबर नहीं थी कि एनसीपी नेता अजित पवार बीजेपी को समर्थन देंगे और फड़नवीस दूसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

शनिवार सुबह अचानक देवेंद्र फड़नवीस के सीएम और अजित पवार के उपमुख्यमंत्री बनने की खबर आई। इसके बाद आए महत्वपूर्ण बयानों के अनुसार एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि नयी सरकार के गठन से एनसीपी का कुछ भी लेना-देना नहीं है, अजित पवार ने बीजेपी को समर्थन दिया है।

खिचड़ी’ नहीं, स्थिर सरकार की जरूरत: देवेंद्र फडणवीस

राज्य में भारतीय जनता पार्टी और एनसीपी ने मिलकर सरकार बनाई है। मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद दोबारा राज्य के मुख्यमंत्री बने देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र को ‘खिचड़ी’ नहीं, स्थिर सरकार की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जनता ने हमें स्पष्ट जनादेश दिया था लेकिन शिवसेना ने हमारा साथ छोड़कर किसी और जगह गठबंधन करना शुरू कर दिया। जिसके चलते महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू हुआ।

- Advertisement -

READ THIS ALSO

Jharkhand Varta

Related Articles

- Advertisement -

Latest Articles