जिले में कोराेना का प्रकोप जारी, फिर भी नहीं समझ रहे लोग

0

मंझिआंव : नगर पंचायत क्षेत्र समेत ग्राम पंचायत स्तर के कई गांव में खुलम खुला लौक डाउन का धज्जियां उड़ाई जा रही है। लौक डाउन का अनुपालन कराने में स्थानीय प्रशासन पूरी तरह नाकाम साबित हो रहे हैं।

इधर प्रबुद्ध नागरिकों का कहना है कि सरकार द्वारा निर्धारित नियम का पालन करने के बजाए लोग उसे तोड़ने में लगे हुए हैं। पिछले कई दिनों से बेखौफ सड़कों पर दो पहिया वाहन पर ट्रिपल लोड का परिवहन होता आ रहा है। और तो और ब्लॉक से सटे मुख्य सड़क से दर्जनों छोटी बड़ी गाड़ियां गुजरती रहती है।

इधर मकान का ढलाई करने के लिए प्रखंड विकास पदाधिकारी अमरेन डांग द्वारा पांच मजदूरों का सिविल कार्य के लिए अनुमति दिया जाता है। जबकि अनुमंडल पदाधिकारी प्रदीप कुमार का कहना है कि किसी भी परिस्थिति में ढलाई करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सोशल डिस्टेंस का हर हाल में पालन करना सबों का मूल कर्तव्य बनता है। क्योंकि गढ़वा जिला में कोरना प्रकोप का ग्राफ बढ़ रहा है।

इधर गत शनिवार को शहरी क्षेत्र निवासी अशोक मेहता का घर ढलाई के लिए अनुमति दिया गया था लेकिन अनुमति देने के बावजूद भी एकाएक प्रखंड के सारे प्रशासनिक पदाधिकारियों ने ढलाई स्थल पर पहुंचे और ढलाई नहीं करने का सख्त निर्देश दिया गया इसके बाद ढलाई पर पूर्णत पाबंदी लगा दी गई। रविवार को दुबे तहले गांव निवासी अजय पासवान का मकान का ढलाई करने के लिए प्रखंड विकास पदाधिकारी के द्वारा अनुमति पत्र दिया गया था लेकिन निर्धारित क्षमता से ज्यादा मजदूर होने के कारण ढलाई कार्य बंद करवा दिया गया।

गौरतलब हो कि एक ओर जहां प्रखंड विकास पदाधिकारी के द्वारा ढलाई कार्य के लिए अनुमति दिया जाता है और दूसरी ओर ढलाई पर पाबंदी लगा दी जाती है। इधर प्रखंड प्रखंड पदाधिकारी अमरेन डांग से पूछे जाने पर बताया कि कम से कम 5 मजदूरों का अनुमति दिया गया था। सूचना के आलोक में प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी राकेश सहाय ढलाई स्तर पर दुबेतहले गांव पहुंचे। और चुपचाप लौट गए और साथ ही ढलाई कार्य शुरु रहा।

इसके बाद स्थानीय पत्रकारों ने इसे गंभीरता से लेते हुए प्रखंड के प्रशासनिक अधिकारियों को अवगत कराया फिर भी प्रखंड के प्रशासनिक अधिकारी बेखबर रहे। जबकि जिले के वरीय पदाधिकारी प्रदीप कुमार से इस संदर्भ में कहा गया तो उन्होंने अभिलंब ढलाई कार्य बंद करने का सख्त निर्देश दिया। निर्देश के आलोक में प्रखंड विकास पदाधिकारी ने पुणः ढलाई स्थल पर जाकर ढलाई का कार्य बंद करवाने का काम किया। इधर अनुमंडल पदाधिकारी प्रदीप कुमार ने बताया कि नगर पंचायत क्षेत्र में किसी भी प्रतिष्ठान का ढलाई करने का अनुमति किसी परिस्थिति में नहीं है।