झारखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में भी बढ़ रहा कोरोना संक्रमण

0

झारखंड में कोरोना संक्रमण का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। चिंताजनक तो यह है कि अब ग्रामीण इलाकों में भी इसका फैलाव होने लगा है। इससे ज्यादा संकट यह है कि संक्रमण बढ़ने के बावजूद राज्य में कोरोना जांच की रफ्तार काफी धीमी है। सिमडेगा में बुधवार को 22 मरीजों की पुष्टि की गई जिसमें 12 शहरी जबकि 10 ग्रामीण क्षेत्र से एक ही परिवार के हैं। गुमला में 47 मरीज मिलने की पुष्टि हुई है। इनमें 15 ग्रामीणों क्षेत्रों से हैं। उसी प्रकार चतरा में दो मरीज मिले जिनमें से एक ग्रामीण क्षेत्र का है। गढ़वा में मंगलवार को तीन संक्रमित मिले थे जो ग्रामीण क्षेत्रों से हैं। रामगढ़ में भी पिछले 24 घंटे में 18 कोरोना मरीज मिले जो ग्रामीण क्षेत्रों के ही हैं।

जांच की रफ्तार धीमी : कोरोना संक्रमण बढ़ने के बावजूद राज्य में जांच की रफ्तार धीमी है। स्थिति यह है कि कई जिलों में रोज होने वाली जांच की संख्या 100 भी नहीं पहुंच पा रही है। यह स्थिति तब है, जब स्वास्थ्य सचिव केके सोन सभी उपायुक्तों और सिविल सर्जनों को पत्र लिखकर जांच बढ़ाने का निर्देश दे रहे हैं। 24 मार्च को राज्य भर में 11215 सैंपलों की जांच हुई थी। जिसमें 194 मरीज मिले थे जबकि, 30 मार्च को 11426 सैंपलों की जांच हुई, जिसमें 418 संक्रमित मिले हैं। यानी जांच की संख्या जहां 211 बढ़ी, मरीजों की संख्या 224 बढ़ गयी।