ट्यूशन शिक्षक का छात्रा से एकतरफा इश्क इस कदर परवान चढ़ा कि…. गए जिंदगी भर के लिए जेल

0

धनबाद: एक ट्यूशन पढ़ाने वाले शिक्षक का एकतरफा प्यार छात्रा से इस कदर उमरा की वह उसे प्रपोज कर दिया लेकिन छात्रा ने अपने घर वालों को यह बात बता दी उसके बाद घर वालों ने शिक्षक को डांट डपट कर और जलील कर भगा दिया। इसका बदला लेने के लिए शिक्षक ने गूगल पर सर्च किया प्रेमिका के हाथ पैर का नस पुजाली से काट कर उसकी निर्ममता से उसके ही घर में हत्या कर दी थी। इस मामले में धनबाद जिला अदालत के जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजीव कुमार सिन्हा ने फैसले में दोषी शिक्षक को आजीवन कारावास साथ ही ₹20000 अर्थदंड देने का आदेश दिया है।

बता दें मृतका के पिता की शिकायत पर सुलेख के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई थी। पुलिस ने 27 नवंबर 17 को इस मामले में आरोपपत्र दायर किया था। 21 मार्च 18 को आरोप तय होने के बाद सुनवाई शुरू हुई थी।

छात्रा हत्याकांड में अदालत ने 22 फरवरी को आरोपित को दोषी करार दिया था। सजा की बिंदु पर सुनवाई के लिए 25 फरवरी की तिथि निर्धारित की गई थी।

बता दें कि बैंक मोड़ मटकुरिया घूरनी जोरिया इश्कबाज शिक्षक सुलेख कुमार ने अपने ही 11वीं में पढ़ने वाली नाबालिग छात्रा से

एकतरफा प्यार करता था लेकिन बार-बार कहने के बावजूद भी मृतका उसकी बात मानने को तैयार नहीं थी। उसे हासिल करने के लिए वह कुछ भी करने पर तैयार था।उसने मन ही मन यह ठान लिया था कि जब वह मेरी नहीं हुई तो वह किसी और की भी नहीं होगी। इसी कारण उसने गूगल पर सर्च किया तो उसे जानकारी मिली कि हाथ पैर की नस काटने से फौरन मौत हो जाती है।

खबरों के अनुसार इश्कबाज शिक्षक ने पुलिस को बताया था कि वह खर्चा चलाने के लिए मटकुरिया में ट्यूशन पढ़ाता था। वह मृतका को भी ट्यूशन पढ़ाता था। ट्यूशन पढ़ाने के दौरान वह उसे अच्छी लगने लगी। जब वह किसी से बात करती तो उसे अच्छा नहीं लगता। मैं चाहता था कि वह किसी से भी बात नहीं करें। एक दिन मौका देखकर उससे प्यार का इजहार कर दिया था जिसकी शिकायत मृतका ने अपने पिता से कर दी थी। मृतका के पिता ने उसे काफी डांट-फटकार कर भगा दिया था लेकिन मैं हर दिन उसके स्कूल जाने वाले रास्ते पर उसका इंतजार करता था लेकिन वह मुझे भाव नहीं देती थी। एक दिन

अंधेरे का फायदा उठा घर में घुसा

29 अगस्त 17 को अंधेरा होने के बाद सुलेख उसके घर के पीछे रेलवे लाइन के पास बैठ गया। जब देर रात हुई तो पीछे आंगन की तरफ से घर की छत पर चढ़ने लगा। करकट हटाकर अंदर घुसा। छात्रा के माता-पिता के कमरे में ताला लगा दिया। इसके बाद छात्रा के कमरे में घुसकर उसके हथेली पर भुजाली से वार किया। वह जग गई और चिखने लगी। बगल में सो रहा उसका भाई भी चिल्लाने लगा जिसे भुजाली मार घायल कर दिया। मृतका मदद के लिए अपने माता-पिता के कमरे की तरफ बढ़ी तो उसके ऊपर ताबड़तोड़ हमला कर दिया और वहां से भाग गया।

बहरहाल अब वह इसकी सजा जेल के सलाखों के पीछे आजीवन काटेगा और साथ ही ₹20000 अर्थदंड भी देगा।