डिफॉल्टर डीलर को मिल रहा था राशन, पड़ताल के बाद लगी रोक

0

गढ़वा/मंझिआव : प्रखंड रामपुर के डीलर सरस्वती कुंवर के द्वारा पिछले अक्टूबर महीने का खाद्यान्न की कालाबाजारी करने का पुष्टि करते हुए प्रखंड खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी सह बी.डी.ओ अमरेन डांग द्वारा डिफाल्टर डीलर पर कार्रवाई हेतु संबंधित विभाग के जिला कार्यालय में अपने विभागीय पत्रांक संख्या 865 ऑब्लिक 10 अक्टूबर 2019 को पत्राचार किया गया था। भेजे गए पत्र में उल्लेख किया गया था कि उक्त डीलर द्वारा खाद्यान्न उठाओ के बावजूद भी कार्ड धारियों के बीच राशन नहीं वितरण किया गया था।

इसी के आलोक में राशन दुकान की जांच 4 अक्टूबर 2019 को किया गया था। यहां तक कि भेजे गये जांच प्रतिवेदन में कहा गया था कि जांच उपरांत साफ स्पष्ट है कि डीलर सरस्वती कुंवर के द्वारा राशन की कालाबाजारी कर दी गई है। साथ ही रामपुर पंचायत के क्षेत्राधिकार के अंतर्गत डीलर विनोद राम की दुकान से संबंध स्थापित करते हुए नवंबर माह की राशन का उठाव करने की अनुमति दिया गया था। इसके बावजूद भी डिफाल्टर डीलर को नवंबर महीने का खाद्यान्न उठाओ करने की अनुमति प्रखंड खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी के द्वारा दिया गया। आदेश के आलोक में मंगलवार को डिफाल्टर डीलर की मौजूदगी में खाद्यान्न एफसीआई राशन गोदाम से निकलवाया गया।

इधर डिफाल्टर डीलर के विरुद्ध बगैर करवाई किए दुबारा राशन उठाओ करने का निर्देश लोगों को कुछ समझ में नहीं आ रहा था। इधर गोदाम मैनेजर राहुल कुमार से पूछे जाने पर बताया कि प्रखंड खाद आपूर्ति पदाधिकारी अमरेन डांग द्वारा अगले आदेश तक के लिए डिफाल्टर डीलर को किसी भी परिस्थिति में खाद्यान्न नहीं दिए जाने का आदेश दिया गया था। लेकिन मंगलवार को अमरेन डांग द्वारा दूरभाष पर डिफाल्टर डीलर को राशन देने का आदेश दिया गया था। कहा कि निर्देश के आलोक में मैंने खाद्यान्न निकलवाया था। इधर इस संबंध में खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी अमरेन डांग से दूरभाष पर पूछा गया कि आखिरकार डिफाल्टर डीलर को बगैर करवाई किए किस आधार पर नवंबर माह का राशन दिया जा रहा है।

अमरेन डांग ने बताया कि अनुमंडल पदाधिकारी के आदेश के अनुसार राशन उठाओ करने की अनुमति दी गई है। जबकि अनुमंडल पदाधिकारी प्रदीप कुमार से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि मैं किसी डिफाल्टर डीलर को राशन उठाव के अनुमति नहीं दिया हूं। इसके बाद तुरंत खाद आपूर्ति पदाधिकारी ने इसे गंभीरता से लेते हुए तुरंत गोदाम मैनेजर राहुल कुमार से फोन से संपर्क करते हुए आनन-फानन में निकलवाया गया राशन को कैंसिल कर किया गया। ज्ञात हो कि गरीबों का हिस्से का अनाज बिक्री करने वाला डीलर पर करवाई नहीं किया जाना बहुत ही आश्चर्यजनक की बात है। जबकि इसकी पुष्टि करते हुए खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी ने कहा कि डीलर को बर्खास्त करते हुए बिक्री की गई राशन की रिकवरी किसी परिस्थिति में करवाई जाएगी।