डीएवी हेहल के सीनियर शिक्षक संजय कुमार शर्मा ने कहा योगा करते रहो तो कोरोना भाग जाएगा

0

 रांची- मैं नियमित तौर पर अनुलोम-विलोम, भ्रामरी, प्राणायाम जारी रखा। इससे ऑक्सीजन लेवल नहीं घटा। खाने में टेस्ट नहीं आता था, लेकिन इसे बढ़ा दिया, कम नहीं किया। इससे ताकत मिली और योग का समय बढ़ा दिया। डाॅक्टर के निर्देश का सौ फीसद पालन किया। इसके बाद तो खुद में विश्वास आ गया कि मुझे कुछ नहीं होगा। मेंटली मजबूत रहा, फिर तो कोरोना भाग गया। यह कहना है रांची स्थित डीएवी हेहल के गणित के सीनियर शिक्षक संजय कुमार शर्मा का। उन्होंने कहा कि मैं कभी भी निराश नहीं हुआ। मुझे योग, दवा व दुआ पर विश्वास था। कई बार स्वजन अस्पताल में भर्ती कराने के लिए तैयार हो गए, लेकिन मैंने कह दिया कि मुझे कुछ नहीं होगा, मैं जल्द अपने काम पर लौटूंगा। हुआ भी यही, 28 मार्च को मेरा रिपोर्ट पाॅजिटिव आया था। संयम और आत्मविश्वास के बल पर 15 अप्रैल को निगेटिव भी हो गया और 17 अप्रैल से ऑनलाइन क्लास के माध्यम से छात्रों के बीच हूं। संजय शर्मा कहते हैं कि पत्नी भी कोरोना पाॅजिटिव हो गई। बेटा हम दोनों को लेकर परेशान था। कुछ दिन पड़ोसी खाना पहुंचा गए, लेकिन उनके यहां भी पाॅजिटिव केस निकल गए तो खाना बंद हो गया। इसके बाद बाहर से खाना मंगवा कर खाने लगा। दोस्त, रिश्तेदार को मना कर दिया था कि अभी मेरे पास नहीं आना है। परेशानी हुई, लेकिन हिम्मत नहीं हारी। संजय शर्मा बताते हैं कि पत्नी और खुद योगदा सत्संग मार्ग से जुड़े हुए हैं। क्रिया योग में दीक्षित हैं। रेकी हीलिंग में भी ट्रेंड हैं। इसलिए मानसिक तौर पर मजबूत रहा। हर दिन तीन-चार बार स्टीम लेता था और गलाला करता था। राहत पहुंचाने में यह बहुत कारगर रहा। नियमित रूप से दूध में हल्दी डालकर लेता था। मोबाइल पर कपिल शर्मा शो देखकर खुश रहता था। वे कहते हैं कि मुझे शुगर है। लेकिन मेरा मानना है कि ऐसी स्थिति में भी आप एक्टिव रहें, खान-पान पर विशेष ध्यान रखें तो स्वस्थ होने में समय नहीं लगेगा। ईश्वर पर भरोसा रखें।