दो आंगनबाड़ी केंद्र वर्षों से बंद रहने के बाद भी फर्जी तरीके से संचालित

0

गढ़वा : बाल परियोजना पदाधिकारी व सुपरवाइजर के मिलीभगत से दो आंगनबाड़ी केंद्र वर्षों से बंद रहने के बाद भी फर्जी तरीके से संचालित हो रहा है। साथ ही सरकार द्वारा दी जाने वाली सभी सामग्रियों का लगातार उठाव भी हो रहा है। इस बड़े गड़बड़ घोटाला का पर्दाफाश झामुमो नेता- अनवर हुसैन अंसारी ने झारखण्ड के मुख्य सचिव को लेटर पैड पर लिख कर जानकारी देते हुए कार्यवाई करने की मांग की है। यह मामला है जिले के कांडी प्रखण्ड क्षेत्र अंतर्गत पतहरिया पंचायत की।

उक्त पंचायत के सड़की गांव में दो आंगनबाड़ी केंद्र फर्जी तरीके से चल रहे हैं, जिसकी सेविका उषा देवी पति- इंदल व दूसरे आंगनबाड़ी केंद्र की सेविका इंद्रलोक देवी पति राजेश्वर पाल हैं। उक्त दोनों केंद्र वर्षों से बंद हैं। न ही महिलाओं, न ही बच्चों को कोई लाभ मिलता है। गड़बड़ घोटाले का आलम यह कि फर्जी सूची बनाकर आंगनबाड़ी केंद्र चलाया जा रहा है। नेता- अनवर हुसैन अंसारी ने कांडी सीडीपीओ व सुपरवाइजर पर आरोप लगाते हुए कहा है कि पदाधिकारियों की लापरवाही व मिलीभगत से केंद्र चलाया जा रहा है। फर्जी सूची तैयार कर सभी सरकारी सामग्रियों का उठाव वर्षों से किया जाता रहा है। उन्होंने मुख्यसचिव से मांग किया है कि फर्जी तरीके से चल रहे उक्त दोनों आंगनबाड़ी केंद्रों की जांच कर सेविकाओं पर कार्यवाई की जाए। साथ ही सीडीपीओ व सुपरवाइजर को निलंबित करने की भी मांग की है। साथ ही इस आशय की जानकारी समाज कल्याण व बालविकास रांची, सचिव मानवसंसाधन सह राज्य परियोजना रांची, उपायुक्त गढ़वा, जिला समाज कल्याण व बालविकास पदाधिकारी गढ़वा, अनुमंडल पदाधिकारी गढ़वा को भी एक-एक प्रतिलिपि प्रेषित कर दी गयी है।

संवाददाता- विवेक चौबे