धान क्रय नहीं की जाने से आक्रोशित किसान धरने पर बैठे

0

खबर सरिता देवी

मझीआंव. गढ़वा :- प्रखंड परिसर स्थित धान क्रय सेंटर मे नियमित रूप से किसानों से धान की खरीदारी कराए जाने को लेकर लगभग दो दर्जन किसानों ने प्रखंड कार्यालय के बरामदे मे धरने पर बैठ गए। धरने पर बैठे किसान मोहम्मद सगीर अहमद खां, शमशाद खां, मोहम्मद परवेज खां, राजेश्वर मेहता, भरत कुशवाहा, अवधेश यादव, विनोद यादव, मोहम्मद अली खां, उमेश मेहता, रंजीत कुमार मेहता, उमेश गुप्ता , राधेश्याम यादव, कंचन सिंह कुशवाहा, अशोक समेत कई किसानों ने कहा की धान क्रय सेंटर में प्रतिनियुक्त पदाधिकारियों की मनमानी काफी बढ़ गई है। जब जी चाहे तब वे सेंटर बंद कर चले जाते हैं।

जिससे कि किसान प्रतिदिन अपना धान विक्रय करने के लिए आते हैं। और बगैर धान विक्रय की घर जाने पर विवश हो जाते हैं। नतीजा यह सब सेंटर के प्रतिनियुक्त पदाधिकारी की लापरवाही दर्शाता है। इधर किसानों की मांगों पर अंचलाधिकारी सह नोडल पदाधिकारी अमरेन डांग ने किसानों के समक्ष भरोसा दिलाते हुए कहा कि अब नियमित रूप से धान का क्रय किया जाएगा। इसके लिए उन्होंने सेंटर पर प्रतिनियुक्त पदाधिकारी रंजीत चक्रवर्ती एवं मणि भूषण चौधरी के दूरभाष के माध्यम से वार्तालाप कर अभिलंब किसानों से धान क्रय करने का निर्देश दिया गया। ज्ञात हो कि गत सोमवार की सुबह लगभग 10:30 बजे अपने धान का क्रय करने के लिए सेंटर के प्रतिनियुक्त पदाधिकारियों के समक्ष दबाव डाला जा रहा था। इसी दौरान 2 किसानों ने सेंट्रर परिसर में ही एक-दूसरे से उलझ पड़े थे। और साथ ही मौजूदा स्थिति को देखते हुए सेंटर में सोमवार को दिन भर ताला लटका रहा। और किसान बेचारा घर जाने पर विवश हो गया। नोकझोंक की खबर सुनते ही अन्य किसान काफी आक्रोशित हो गए इसके बाद धरने पर मंगलवार को बैठे हैं।

लगभग 3 घंटे तक लोग धरने पर जमे रहे हैं। इधर इस संबंध में नोडल पदाधिकारी सह प्रखंड विकास पदाधिकारी अमरेन डांग ने बताया कि बुधवार से धान की खरीदारी करने के लिए सेंटर पर प्रतिनियुक्त पदाधिकारी को निर्देश दिया गया है। की सिलसिलेवार ढंग से किसानों से धान क्रय करने की व्यवस्था सुनिश्चित करें। अन्यथा विभागीय कार्रवाई हेतु जिले के वरीय पदाधिकारी के पास पत्राचार किया जाएगा। इस मौके पर युवा समाजसेवी मारुत नंदन सोनी ने भी किसानों के समर्थन में धरना स्थल पर बैठे हुए थे। इसके बाद मारुत नंदन सोनी एवं भरत कुशवाहा के नेतृत्व में गरीब किसानों ने अपनी जायज मांगों को लागू करवाने के लिए वीडियो से मुलाकात की है।