निर्भया के दोषियों की क्यूरेटिव याचिका खरिज, फांसी बरक़रार

0

नई दिल्ली : निर्भया के 2 दोषियों को सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को बड़ा झटका देते हुए उनकी क्यूरेटिव याचिका को खारिज कर दिया है। न्यायमूर्ति एनवी रमना, न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति रोहिंटन फली नरीमन, न्यायमूर्ति आर भानुमति और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की 5 न्यायाधीशों वाली संवैधानिक पीठ ने विनय शर्मा और मुकेश द्वारा दायर की गई याचिकाओं को खारिज कर दिया है। इस तरह अब इस केस के दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी दिया जाना तय हो गया।

2 दोषियों ने दायर की थी क्यूरेटिव याचिका

7 जनवरी को दिल्ली पटियाला हाउस की ट्रायल कोर्ट ने चारों दोषियों को 22 जनवरी को फांसी पर लटकाने के लिए डेथ वांरट जारी किया था। जिसके बाद 2 दोषियों के द्वारा क्यूरेटिव याचिका दायर की गे थी। जिसे आज सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज कर दिया है।

क्या है मामला
दरअसल, 16 दिसंबर, 2012 को एक 23 वर्षीय महिला के साथ बेहरमी से सामूहिक दुष्कर्म किया गया और दोषियों की ओर से पीड़िता को काफी अत्याचार भी झेलना पड़ा, जिसके बाद उसकी मौत हो गई। इसके बाद अपराध में शामिल सभी छह आरोपियों को गिरफ्तार कर दुष्कर्म व हत्या का मामला दर्ज किया गया। जिसमे 1 की जेल में मृत्यु हो गई, दूसरा नाबालिक था जिसने अपनी सजा पूरी कर ली है। बचे 4 अपराधियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी की सजा सुनाई गई है।