नौजवानों के हाथों में परिवर्तन और देश बदलने की ताकत : मुख्यमंत्री

0

रांची : युवा दिवस के मौके पर स्वामी विवेकानंद की जयंती पूरे शहर में धूमधाम से मनाई जा रही है। इसी क्रम में आज मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बादतलब स्थित स्वामी विवेकानंद के प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें शर्धांजलि दी। इस मौके पर उन्होंने कहा कि स्वामी जी प्रेरणास्रोत थे। सवा सौ साल पहले ऐसा व्यक्ति इस सृष्टि में जन्म लिया जिन्होंने अपनी सोच, विचार और अद्भुत कार्य क्षमता से पूरे विश्व में अपनी अलग पहचान बनाई। दुनिया को एक नई दिशा दी । नौजवानों को ऊर्जा से भर दिया। नकारात्मकता को लोगों के अंदर से दूर कर दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने पूरी दुनिया पर अपने कर्मों की छाप इस तरह छोड़ी कि उसकी मिसाल आज भी लोग देते हैं और सदियों तक देते रहेंगे। स्वामी जी ने झारखंड के नाम को भी अंकित करते हुए कई उदाहरण दिए हैं। इसलिए उन्हें लोग आध्यात्मिक गुरु के रूप में भी जानते हैं। उन्होंने युवाओं को आह्वान करते हुए कहा कि नौजवानों के हाथों में परिवर्तन की ताकत होती है। समाज और देश को बदलने की क्षमता होती है। इसलिए स्वामी जी के बताएं मार्गो पर चलकर नौजवान एक बेहतर भविष्य का निर्माण कर सकते हैं। हमें इतिहास के पन्नों से सीख लेकर आगे बढ़ने की जरूरत है , निश्चित ही हर कठिन परिस्थितियों में भी सफलता प्राप्त होगी।

उनके साथ मंत्री डॉ. रामेश्वर उरांव भी मौजूद थे। वहीं, दिल्ली में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मिलने के अलावा हेमंत 13 जनवरी को सोनिया गांधी द्वारा आयोजित विपक्षी दलों की बैठक में शामिल हाेंगे।

आम लोगों के लिए खुला विवेकानंद प्रतिमा स्थल

इधर, स्वामी विवेकानंद सरोवर (बडा तालाब) में लगाई गई विवेकानंदजी की प्रतिमा उनकी जयंति के दिन आम लोगों के लिए खोल दिया गया। आज और कल सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक आम लोग प्रतिमा स्थल तक घूम सकेंगे। इसके बाद रोज सुबह 10 बजे से शाम 5.50 बजे तक प्रतिमा स्थल खुला रहेगा। शाम ढलने के बाद यहां जाने की अनुमति नहीं होगी। दैनिक भास्कर ने शनिवार को ‘सालभर पहले दिखावे का लोकार्पण, आज तक विवेकानंद की प्रतिमा तक नहीं पहुंच पाए लोग’ शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। इसके बाद मुख्यमंत्री ने इसे गंभीरता से लेते हुए अफसरों को व्यवस्था दुरूस्त करने का निर्देश दिया। तब जाकर अफसरों की नींद टूटी और आम लोगों के लिए इसे खोलने का निर्देश दिया गया।