पलामू और गढ़वा में दहशत फैलाने वाले जेजेएमपी के चार उग्रवादी हथियार समेत पुलिस के हत्थे चढ़े

0

गढ़वा:उग्रवादी संगठन जेजेएमपी के 4 उग्रवादियों को देसी पिस्तौल और गोली के साथ पुलिस ने रामगढ़ थाना क्षेत्र के बाधी गांव के जंगल से दबोचा। पलामू के पुलिस अधीक्षक अजय लिंडा के अनुसार गिरफ्तार उग्रवादियों द्वारा जिले के चैनपुर, रामगढ़ के अलावा गढ़वा जिले के भंडरिया थाना क्षेत्र में कई आपराधिक घटनाओं को अंजाम देकर दहशत का माहौल कायम किए हुए थे।पलामू और गढ़वा जिले में पिछले दिनों हुई हिंसक घटनाओं में सभी शामिल थे। इनकी गिरफ्तारी से जेजेएमपी को भारी नुकसान हुआ है।जेजेएमपी के महेश भुइयां के दस्ते के लिए सभी काम करते थे।

एसपी ने यह भी बताया कि इलाके में लेवी वसूलना इनका मुख्य कार्य है।ठेकेदार से लेकर ईंट भट्ठा मालिक का नंबर ये जुगाड़ करते थे और संगठन तक पहुँचाते थे।वहां से मिले निर्देश का पालन करते और जो लेवी देने से इनकार करता उनके वाहन, गोदाम सहित अन्य को फूंक देते थे।गिरफ्तार उग्रवादियों ने पिछले दिनों चैनपुर के शाहपुर में सुबोध गुप्ता के बीड़ी पत्ता गोदाम, भंडरिया के कुरुन जंगल में ट्रक औऱ रामगढ़ के छितरा में अजित चंद्रवंशी के बीड़ी पत्ता में आग लगा दी थी। तीनों मामले में प्राथमिकी दर्ज है।एसपी ने बताया कि लेवी नहीं मिलने से नाराज जेजेएमपी के 6 उग्रवादियों ने मिलकर गत 19 सितंबर की रात जिला मुख्यालय से सटे शाहपुर स्थिति बीड़ी पत्ता गोदाम में आग लगायी थी।इससे भारी नुकसान हुआ था।इसमें जेजेएमपी कमांडर महेश भुइयां के अलावा विवेक यादव, राकेश यादव, सुनील उरांव,पवन सूट विश्वकर्मा औऱ दुबेश शामिल थे।गिरफ्तार उग्रवादियों में गढ़वा के भंडरिया थाना क्षेत्र के कुरुन निवासी विवेक यादव औऱ राकेश यादव औऱ रामगढ़ के चोरहट निवासी विजय राम और आशीष साव हैं।इनमें विवेक के पास से देसी कट्टा और गोली बरामद की गयी है।इसमें गिरफ्तार आशीष साव के खिलाफ रामगढ़ औऱ बरवाडीह थाने में एक एक मामला दर्ज है।गिरफ्तारी अभियान में सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी संदीप कुमार गुप्ता, चैनपुर इंस्पेक्टर आर आर शाही, चैनपुर थाना प्रभारी सुनीत कुमार, रामगढ़ के पुलिस अवर निरीक्षक घुमा किस्को और विजय कुमार व सहायक अवर निरीक्षक संजय कुमार शामिल थे।