पुलिस की वर्दी में वाहनों से लूटपाट व वसूली करने वाले दो अपराधियों गिरफ्तार

0

बुढ़मू- कोयजम घाटी में पुलिस की वर्दी में वाहनों से लूटपाट व वसूली करने वाले दो अपराधियों को बुढ़मू थाने की पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वहीं, दो अपराधी भागने में सफल रहे। थाना प्रभारी नवीन कुमार ने बताया कि बुधवार की रात्रि लगभग ग्यारह बजे सूचना मिली कि लाल रंग की स्कार्पियों पर सवार चार लोग जो पुलिस जैसी दिखने वाली वर्दी पहने हुए हैं और माइनिंग अफसर और पुलिसकर्मी बनकर ईंट, बालू, कोयला लदे वाहनों को रोककर थानाप्रभारी के नाम पर वसूली कर रहे हैं। इस दौरान उनके द्वारा कई चालकों, एक स्कार्पियो सवार से नगदी समेत मोबाइल फोन छीन लिया गया था। थाना प्रभारी ने इस पर त्वरित कार्रवाई करते हुए दबिश दी गई। इस दौरान मौके पर से दो आरोपितों को गिरफ्तार किया गया। वहीं, दो आरोपित जंगल व अंधेरे का लाभ उठाकर फरार हो गए। गिरफ्तार आरोपितों के पास से पुलिस ने वसूली की गई नकदी बरामद की है।\n \nनकली पुलिस व अधिकारी बनकर अवैध वसूली का मास्टरमाइंड अनवर अंसारी है। वह लगातार चान्हो समेत आसपास के थाना क्षेत्र में मवेशी लदे व ईंट, बालू, कोयला, चिप्स लदे वाहनों से पुलिस बनकर वसूली करता था। इतना ही नहीं अधिकारी बनकर वाहनों के कागजात चेकिंग के बहाने वसूली करता था। इसी आरोप में अनवर को चान्हो पुलिस ने जेल भेजा था और एक सप्ताह पूर्व ही वह जेल से निकला था और पुन: सक्रिय हो गया। बुढ़मू थाने की पुलिस मामला दर्ज कर अनुसंधान कर रही है। गिरफ्तार दोनों आरोपितों को कोविड जांच के बाद जेल भेजा जाएगा। वहीं, फरार दोनों आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापामारी कर रही है।\n \nपुलिस के हत्थे चढ़े ककरगड़ के अलीमुद्दीन अंसारी व रामरतन सिंह ने पूछताछ में कबूल किया कि उनका यह पुराना धंधा है। उनका गिरोह जहा भी रात में व्यवसायिक वैध या अवैध परिवहन होता है वहा ये वसूली के लिए पहुंच जाते हैं। पुलिस की वर्दी देखकर आमतौर पर अधिकाश अवैध कारोबारी आसानी से पैसा दे देते हैं। दोनों ने भागने वाले अपने सहयोगियों के नाम क्रमश: अनवर अंसारी व रामव्रत मुंडा बताया है। सभी लाल रंग की स्कार्पियो वाहन का उपयोग करते थे।\n \nबुढ़मू- कोयजम घाटी में पुलिस की वर्दी में वाहनों से लूटपाट व वसूली करने वाले दो अपराधियों को बुढ़मू थाने की पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वहीं, दो अपराधी भागने में सफल रहे। थाना प्रभारी नवीन कुमार ने बताया कि बुधवार की रात्रि लगभग ग्यारह बजे सूचना मिली कि लाल रंग की स्कार्पियों पर सवार चार लोग जो पुलिस जैसी दिखने वाली वर्दी पहने हुए हैं और माइनिंग अफसर और पुलिसकर्मी बनकर ईंट, बालू, कोयला लदे वाहनों को रोककर थानाप्रभारी के नाम पर वसूली कर रहे हैं। इस दौरान उनके द्वारा कई चालकों, एक स्कार्पियो सवार से नगदी समेत मोबाइल फोन छीन लिया गया था। थाना प्रभारी ने इस पर त्वरित कार्रवाई करते हुए दबिश दी गई। इस दौरान मौके पर से दो आरोपितों को गिरफ्तार किया गया। वहीं, दो आरोपित जंगल व अंधेरे का लाभ उठाकर फरार हो गए। गिरफ्तार आरोपितों के पास से पुलिस ने वसूली की गई नकदी बरामद की है।

नकली पुलिस व अधिकारी बनकर अवैध वसूली का मास्टरमाइंड अनवर अंसारी है। वह लगातार चान्हो समेत आसपास के थाना क्षेत्र में मवेशी लदे व ईंट, बालू, कोयला, चिप्स लदे वाहनों से पुलिस बनकर वसूली करता था। इतना ही नहीं अधिकारी बनकर वाहनों के कागजात चेकिंग के बहाने वसूली करता था। इसी आरोप में अनवर को चान्हो पुलिस ने जेल भेजा था और एक सप्ताह पूर्व ही वह जेल से निकला था और पुन: सक्रिय हो गया। बुढ़मू थाने की पुलिस मामला दर्ज कर अनुसंधान कर रही है। गिरफ्तार दोनों आरोपितों को कोविड जांच के बाद जेल भेजा जाएगा। वहीं, फरार दोनों आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापामारी कर रही है।

पुलिस के हत्थे चढ़े ककरगड़ के अलीमुद्दीन अंसारी व रामरतन सिंह ने पूछताछ में कबूल किया कि उनका यह पुराना धंधा है। उनका गिरोह जहा भी रात में व्यवसायिक वैध या अवैध परिवहन होता है वहा ये वसूली के लिए पहुंच जाते हैं। पुलिस की वर्दी देखकर आमतौर पर अधिकाश अवैध कारोबारी आसानी से पैसा दे देते हैं। दोनों ने भागने वाले अपने सहयोगियों के नाम क्रमश: अनवर अंसारी व रामव्रत मुंडा बताया है। सभी लाल रंग की स्कार्पियो वाहन का उपयोग करते थे।