फिर से एक बार कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष बदलने की चर्चा जोरों पर! जाने कौन हो सकते हैं….

0

रांची: झारखंड प्रदेश कांग्रेस में अंदर ही अंदर चल रहे खेमे बाजी पर अंकुश लगाने के लिए फिर से एक बार प्रदेश अध्यक्ष को बदलने की चर्चा जोरों पर है। वैसे तो गाहे-बगाहे पार्टी में गुटबाजी खुलकर आती रही है और यह मामला केंद्रीय नेतृत्व तक भी कई बार पहुंच चुकी है लेकिन जब से निवर्तमान अध्यक्ष रामेश्वर उरांव ने मारवाड़ी और बिहारियों पर कथित टिप्पणी की और उसको लेकर उनका विरोध हुआ। मामला दिल्ली तक पहुंच गया। उसके बाद से चर्चा हो रही है कि 5 राज्यों में होने वाले चुनाव के बाद अध्यक्ष के पद पर बदलाव हो सकता है।

जानकार सूत्रों का कहना है कि बतौर नए अध्यक्ष के रूप में सुबोध कांत सहाय, कृषि मंत्री बादल पत्रलेख फिर से कांग्रेस में आए डॉ अजय कुमार ‌और कालीचरण मुंडा का नाम चर्चा में है।

जानकार सूत्रों का कहना है कि वैसी स्थिति में बादल पत्रलेख एक नंबर पर चल रहे हैं क्योंकि इनके नाम पर मुहर लगाते हुए वर्तमान अध्यक्ष रामेश्वर उरांव ने मीडिया से कहा भी था कि बतौर प्रदेश अध्यक्ष बादल पत्रलेख सटीक बैठते हैं। इसका कारण उन्होंने यह बताया था कि वे राज्य में अक्सर भ्रमणशील रहते हैं।उस वक्त उन्होंने डॉ अजय के नाम को खारिज करते हुए कहा था कि वह झारखंड में ज्यादा समय नहीं दे पाते हैं।

वहीं दूसरी ओर बादल पत्रलेख ने मीडिया को दिए अपने बयान से यह संकेत दे दिया था कि यदि केंद्रीय नेतृत्व उन्हें प्रदेश नेतृत्व की बागडोर संभालने का दायित्व देता है तो वह उस दायित्व को निभाने के लिए तत्पर रहेंगे। इसके अलावा कांग्रेस में रहते हुए कथित रूप से बागी कांग्रेसी की भूमिका निभाने वाले विधायक इरफान अंसारी ने भी बादल पत्रलेख को अध्यक्ष बनाए जाने के नाम पर हमें जताते हुए खुशी जाहिर की थी।

वहीं जानकार सूत्रों का कहना है कि बंगाल में चुनाव के संदर्भ की चर्चा का हवाला देकर दिल्ली गए वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव के नाम पर मारवाड़ियों और बिहारियों पर कथित रूप से टिप्पणी के बाद रामेश्वर उरांव बादल पत्रलेख के साथ दिल्ली जाकर अपनी सफाई में कहा था कि जैसा कि मीडिया में दिखाया है या बताया जा रहा है उनके बयान में ऐसा कोई आशय नहीं था।

वहीं दूसरी ओर फिर से एक बार कांग्रेस का दामन थामने वाले डॉ अजय कुमार के अलावा सुबोध कांत सहाय कालीचरण मुंडा आदि का नाम अध्यक्ष पद के लिए चर्चा में है।