भारी अनियमितता देख मुखिया- गीता देवी ने सोमवार को नहर निर्माण का काम को बंद करा दिया

0

झारखंड- गढ़वा : जिले के कांडी प्रखण्ड क्षेत्र अंतर्गत लमारी कला पंचायत की मुखिया- गीता देवी ने सोमवार को नहर निर्माण कार्य का निरीक्षण करने पहुंचीं। निरीक्षण के दौरान उन्होंने निर्माण कार्य मे बरती जा रही भारी अनियमितता देख हो रहे काम को बंद करा दिया।

मालूम हो कि जल संसाधन विभाग के माध्यम से हरियाणा की प्रेम इंजीनियरिंग कंपनी ने नहर पक्कीकरण का काम कर रही है, जो आदर से किरिया गांव तक 13 किलोमीटर की लंबाई में नहर पक्कीकरण का कार्य किया जा रहा है। इस दौरान अनियमितता पर रोष जताते हुए कम्पनी के प्रोजेक्ट मैनेजर संदीप को जबरदस्त फटकार लगाई। जानकारी के अनुसार बरडीहा प्रखण्ड के आदर से लेकर कांडी प्रखण्ड के क्रिया तक 13 किमी में नहर निर्माण का कार्य चल रहा है, जहां भारत सरकार के जल संसाधन विभाग द्वारा नहर निर्माण कार्य में भारी अनियमितता बरती जा रही है । उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि बिना कोई सूचना के बाजबरदस्ती सननी, पतहरिया, सबुआँ के दर्जनों निर्धन व्यक्ति के रैयती जमीन में मिट्टी मोरम भरा जा रहा है। खाश बात यह कि केवल एक तरफ यानी पश्चिम में कृषकों की जमीन में बड़े पैमाने पर मोरम भर कर किसानों को भारी नुकसान पहुंचाया जा रहा है। सरकार द्वारा नहर निर्माण करवाकर विकास का कार्य किया जा रहा है, किन्तु यहां के किसानों का विनाश किया जा रहा है।

यह नहर किसानों की जमीन को सींचने के लिए बनाया जा रहा है, किन्तु निजी जमीन में मोरम भर दिया जा रहा है तो किसान सिंचाई क्या करेंगे। किसान सीयाराम पाण्डेय, राम चन्द्र पाण्डेय, ओंकार पाण्डेय, प्रदुमन पाण्डेय, रामखेलावन यादव, नरेश पासवान सहित अन्य ने नहर का निर्माण कार्य कर रही कंपनी पर अनियमितता का आरोप लगाए। वहीं पर्यावरण को बचाने के लिए पेड़ पौधे लगाने हेतु सरकार भी जोर दे रही है। किंतु यहां तो लापरवाही का आलम यह कि बबूल, महुआ, चिलबिल, करम सहित सैकड़ों हरे पेड़ों को काटकर धराशाई कर दिया गया। केवल इतनाही नहीं वन विभाग की जमीन में उत्खनन कर बड़े टीले को काटकर मोरम लाया जा रहा है। जबकि ये सभी टीले प्राकृतिक सौंदर्य के भंडार हैं।

इस विषय मे बरडीहा बीट के वनपाल अनिल गिरी ने बताया कि कंपनी द्वारा सुरक्षित वन क्षेत्र से अवैध रूप से मोरम कोड़ने की विभाग को जानकारी नही है।मुखिया गीता देवी ने कहा कि नहर निर्माण कार्य से गरीब खेतिहरों को कोई नुकसान नहीं पहुंचना चाहिए। साथ ही उन्होंने नहर निर्माण कार्य मे बरती जा रही भारी अनियमितता को लेकर सम्बंधित पदाधिकारियों से जांच की मांग की है। वहीं मुखिया प्रतिनिधि- संतोष कुमार सिंह ने विभाग के एसडीओ- रामाशंकर से फोन पर बात चीत कर बरती जा रही अनियमितता की जानकारी दी। उन्होंने उनसे जांच की मांग की है। मौके पर- काफी संख्या में लोग उपस्थित थे।

संवाददाता- विवेक चौबे