मंझिआंव:करोड़ों की लागत से बन रही बाई बांकी नहर की लंबाई बढ़ाने की मांग

0

मझिआंव गढ़वा :-सिंचाई विभाग के द्वारा अमहर-बिशनपुरा से भूसुआ गांव के मरघटवा पहाड़ी तक करोड़ों रुपए की लागत से निर्माण कराए जा रहे बाई बांकी नहर को ग्रामीणों ने लगभग 1500 सौ स्क्वायर फीट और आगे पुरानी नहर तक बढ़ाने की मांग की है।इस दौरान लकड़ही,बिरबंधा, पश्चिम टोला आमर एवं खजूरी गांव के इबरार खां,गौतम प्रजापति, संजय प्रजापति, प्रमोद पाल,जिब्रेल अहमद, तौकीर खान,सजाउल खान,आकाश कुमार रवि, शर्मा राम,अवधेश राम, तौसीफ खां ,जग नारायण प्रजापति, जय शंकर प्रजापति, प्रसिद्ध प्रजापति व सद्दाम खान सहित लगभग 100 सौ से अधिक की संख्या में ग्रामीणों ने कहा की सरकार के द्वारा किसान हित में बड़ी नहर का निर्माण कराया जाना किसानों के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है।

इसके लिए हम सभी ग्रामीण सरकार को धन्यवाद देता हूं।लेकिन अमहर विशुनपुरा से लेकर भुसुआ गांव के मरघटवा पहाड़ी तक ही बड़ी नहर का निर्माण कराये जाना था। लेकिन पानी का निकासी नहीं होने के कारण नाहर का पानी मरघटवा पहाड़ी तक ही रुक जाने से कुछ गांव के किसान सिंचाई से बंचित हो जाएंगे।इतना ही नहीं इस नहर के पानी की निकासी यदि किसी नदी में नहीं जोड़ा गया तो आनेवाले भविष्य में लकड़ही,खजूरी,बिरबंधा, भूसूआ एवं पश्चिमी टोला आमर गांव डूब क्षेत्र मे तब्दील हो जाएगा।साथ ही ग्रामीणों ने कहा कि नहर निर्माण कार्य बंद स्थल से महज 15 सौ स्क्वायर फीट की दूरी पर पुरानी नहर है।अगर इस बड़ी नहर को पुरानी नहर में मिला दिया जाए तो छूटे हुए कुछ गांव को सिंचाई का लाभ मिलने के साथ ही पानी कि निकासी भी हो जाएगी।और कोई भी गांव डूबेगा भी नहीं।

वही इस दौरान ग्रामीणों ने नहर निर्माण कार्य करवा रहे जेई दीपक कुमार रजक को भी पुरानी नहर स्थल भ्रमण कराया।इस दौरान जेई दीपक कुमार रजक ने बताया कि प्राकलन के अनुसार 24.670 किलोमीटर तक ही नाहर का निर्माण करवाया जाना है।साथ ही उन्होंने कहा कि ग्रामीणों का मांग जायज है।आप सभी लोग लिखित आवेदन दे,मैं विभागीय अपने वरीय पदाधिकारी के पास आप लोग की समस्या पहुंचा दूंगा। इस पर नगर पंचायत क्षेत्र के पूर्व वार्ड पार्षद इबरार खां के नेतृत्व में ग्रामीणों ने एक लिखित नाहर कार्य निर्माण बढ़ाने के लिए सहमति जताते हुए लिखित देने की बात कही है।