महिलाओं के लिए ₹1 में जमीन की रजिस्ट्री सहित रघुवर सरकार की 2 योजनाओं को बंद करने के फिराक में हेमंत सरकार!

0

{वार्ता स्पेशल: रिपोर्ट सतीश सिन्हा की} पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास सरकार के द्वारा चलाई जा रही एक महत्वाकांक्षी योजना ‘महिलाओं के लिए एक रुपया में जमीन की रजिस्ट्री’से राज्य को प्रतिवर्ष लगभग 300 से 400 करोड़ तक के राजस्व की क्षति होने की बात करते हुए हेमंत सोरेन सरकार ने एक ओर इस योजना को बंद करने की तैयारी शुरू कर दी है दूसरी ओर रघुवर सरकार की मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना भी बंद करने के फिराक में है। इसका कारण यह बताया जा रहा है कि कृषि विभाग के अधीन चल सभी योजनाओं के आंकड़े सरकार को उपलब्ध कराने का आदेश संबंधित विभागीय अधिकारियों को दिए जाने की खबर है। सभी योजनाओं को लेकर सरकार का मानना है कि आंकड़ों की जांच के बाद सरकार इसका अवलोकन करेगी की योजना का लाभ वास्तविक लाभ को तक पहुंच रहा है या नहीं ऐसा नहीं होने की स्थिति में वैसे सभी योजनाओं को बंद करने में हेमंत सरकार नहीं हिचकिचाएगी।

खबरों के अनुसार इस संदर्भ में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पिछले दिनों विभागों के कार्यो की समीक्षा बैठक में आदेश देते हुए कहा है कि एक रुपए में महिलाओं के लिए जमीन रजिस्ट्री से सरकार को राजस्व का भारी नुकसान हुआ है। इसी को देखते हुए सरकार इसे बंद करने पर विचार कर रही है।

वहीं दूसरी ओर हेमंत सरकार का मानना है कि एक रुपए महिलाओं के नाम रजिस्ट्री से वास्तविक रूप से गरीब परिवारों को लाभ नहीं हुआ। झारखंड में जमीनों की कीमतों में वृद्धि के कारण कोई गरीब परिवार जमीन की खरीद बिक्री नहीं करता है। वहीं इस योजना के आते ही अमीर परिवारों ने जमीन की खरीद बिक्री महिलाओं के नाम पर करना शुरू कर दिया। जिससे सरकार को राजस्व की भारी चपत लगी।

इसके अलावा झारखंड सरकार में कांग्रेसी कोटे से बने कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने भी 2 दिनों पूर्व अपने विभाग की कई योजनाओं को बंद करने की ओर इशारा किया है‌। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के साथ समीक्षा बैठक के बाद मीडिया को उन्होंने बताया था कि बैठक में कृषि विभाग के अंतर्गत चल रही सभी योजनाओं के आंकड़े सरकार समक्ष प्रस्तुत करने का आदेश अधिकारियों को दिया गया है। आंकड़ों का अवलोकन करने के बाद ही सरकार देखेगी की योजना का लाभ सही व्यक्ति तक पहुंच रहा है या नहीं यदि लाभ वास्तविक लाभ तक नहीं पहुंच रहा है तो सरकार वैसे सभी योजनाओं को बंद करने से परहेज नहीं करेगी।

बहरहाल सरकार के इस फरमान के बाद पूर्व मंत्री रघुवर दास के सरकार के कार्यकाल के दौरान शुरू हुई मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना पर भी बंद होने की तलवार लटक रही है।