महिलाओं ने निर्जला उपवास रख किया जिउतिया का पर्व,संतान की लंबी आयु की कामना

- Advertisement -

खबर:-शुभम जायसवाल

श्री बंशीधर नगर:– अनुमंडल मुख्यालय सहित ग्रामीण क्षेत्रों में रविवार को जिउतिया का पर्व श्रद्धा और भक्ति भाव के साथ बड़े ही हर्षोल्लास से मनाया गया। इस दौरान महिलाओं ने पेट्रोल पंप स्थित गायत्री शक्तिपीठ,भवनाथपुर मोड़ स्थित हनुमान मंदिर, अहिपुरवा काली मंदिर, पाल्हे कला स्थित आशुतोष महादेव मंदिर, चचेरिया स्थित पंचमुखी महादेव मंदिर सहित विभिन्न मंदिरों व घरों में सामूहिक रूप से पूजा अर्चना किया।

हालांकि पंचमुखी महादेव मंदिर में बड़ी संख्या में व्रती महिलाओं की भीड़ देखने को मिला। पर्व को लेकर महिलाओं ने 24 घंटे का निर्जला उपवास रखकर पूजा अर्चना की तथा ईश्वर से संतान की लंबी आयु व हर दुख बाधा से बचाने एव परिवार में सुख समृद्धि की कामना की। इस दौरान जिउतिया पर देर शाम व्रती महिलाओं ने अपने घर और मंदिरों में पुजारियों के मंत्रोच्चार के साथ जीवित वाहन बाबा की पूजा-अर्चना किया।

इसके बाद पुजारियों ने व्रती महिलाओं के समक्ष पर्व की कथा का श्रवण किया। इस अवसर पर व्रती मीना देवी,रेनू देवी,शोभा देवी,अनिता देवी,निकिता देवी,कंचन देवी,पूजा अग्रवाल,गीता देवी, आशा देवी सहित बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल थी।

जिउतिय क्यों मनाया जाता है

गायत्री शक्तिपीठ में पुजारी अजीत चौबे ने बताया की शास्त्रों के अनुसार ऐसा मान्यता है की महिलाएं पूरा दिन निर्जला उपवास रखकर जीवित वाहन बाबा से पुत्र पुत्री की लंबी आयु व दृघायु जीवन की कामना करती है। वही अगले की पारन कर व्रत को तोड़ती है।

उन्होंने बताया कि जीवित वाहन एक राजा थे, उन्होंने एक जंगल में एक नागवंशी की बूढ़ी माता को रोते हुए देखा उससे कारण पूछा तो माता ने बताया कि पक्षीराज गरुड़ रोज हमारे वंश की एक एक बच्चे को खा जाते है। आज हमारे बेटे शंखचूड़ की बारी है इसीलिए मुझे दुख हो रहा है,तब राजा जीवित वाहन , वही माता को अस्वस्थ किया।

माता आज आप के लड़के की जगह मैं जाऊंगा आपका लड़का का कुछ नहीं होगा और वह लाल कपड़ा ओढ़कर गरुड़ जी के पास गई। तो उनके रोने की आवाज सुना। उसके बाद जीत वाहन से उनकी सारी कथा सुनी तब पक्षीराज गरुड़ ने कहा हे राजन तुम इतने दयालु और दूसरे के लिए अपने प्राण निछावर करने के लिए भी जो तुम्हारे अंदर त्याग है ,बलिदान है।

उस पर मैं बहुत प्रसन्न हूं।उन्होंने कहा की तुम बर मांगो तब जीवित बाहर राजा ने कहा उनका जो बच्चा बच्चा मरा है सब को जीवित कर दें।इसके बाद सारे जीवित हो गए। उसी दिन से जीवित पुत्रिका आश्विन कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है।

- Advertisement -

READ THIS ALSO

Jharkhand Varta

Related Articles

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन मोरहाबादी मैदान और अरगोड़ा मंडा मैदान में आयोजित रावण दहन कार्यक्रम में हुए सम्मिलित

रांची:- मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन आज विजयदशमी के अवसर पर पंजाबी -हिंदू बिरादरी दशहरा कमेटी की ओर से मोरहाबादी मैदान और श्री...

श्री बंशीधर नगर: धू-धू कर जला रावण का अहंकार,पूर्व विधायक बोले- अधर्म पर हुई धर्म की विजय

शुभम जायसवालश्री बंशीधर नगर :-- न्याय की अन्याय पर, सदाचार की दुराचार पर धर्म के आधार मतलब गर्व की अहंकार पर,बुराई पर अच्छाई की,...

देवी मंडप नवयुवक संघ बुंडू ने किया सैकड़ों भक्तों के बीच खीर वितरण

बुंडू:- नगर स्थित देवी मंडप नवयुवक संघ बुंडू के द्वारा मंगलवार को नवमी के मौके पर सैकड़ों श्रद्धालु के बीच प्रसाद रूपी...
- Advertisement -

Latest Articles

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन मोरहाबादी मैदान और अरगोड़ा मंडा मैदान में आयोजित रावण दहन कार्यक्रम में हुए सम्मिलित

रांची:- मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन आज विजयदशमी के अवसर पर पंजाबी -हिंदू बिरादरी दशहरा कमेटी की ओर से मोरहाबादी मैदान और श्री...

श्री बंशीधर नगर: धू-धू कर जला रावण का अहंकार,पूर्व विधायक बोले- अधर्म पर हुई धर्म की विजय

शुभम जायसवालश्री बंशीधर नगर :-- न्याय की अन्याय पर, सदाचार की दुराचार पर धर्म के आधार मतलब गर्व की अहंकार पर,बुराई पर अच्छाई की,...

देवी मंडप नवयुवक संघ बुंडू ने किया सैकड़ों भक्तों के बीच खीर वितरण

बुंडू:- नगर स्थित देवी मंडप नवयुवक संघ बुंडू के द्वारा मंगलवार को नवमी के मौके पर सैकड़ों श्रद्धालु के बीच प्रसाद रूपी...

जय श्रीराम के नारे से गुंजा आकाश न्यू आदर्श शिक्षित बेरोजगार संघ चौरियों द्वारा किया गया रावण का पुतला दहन।

गढ़वा : खरौंधी प्रखंड अंतर्गत ग्राम चौरिया में न्यू आदर्श शिक्षित बेरोजगार संघ द्वारा विजयदशमी के अवसर पर रावण का पुतला दहन किया गया...

श्री बंशीधर नगर: दशहरा आज “करें मां का दर्शन”, मेले में आए श्रद्धालु को करने “रक्षा, चारों तरफ पुलिस बलों की है सुरक्षा”

शुभम जायसवालश्री बंशीधर नगर :-- कोरोना काल के दो सालों के बाद इस वर्ष विजयादशमी पर्व यानी दशहरा अनुमंडल मुख्यालय सहित आसपास के इलाकों...