मिसाल: संसाधनो की भारी कमी के बावजूद, शिक्षा का अलख जगा रहे उपेंन्द्र कुमार यादव

- Advertisement -
- Advertisement -

चतरा: कौन कहता है कि आसमान में सुराख नहीं हो सकता,जरा तबीयत से एक पत्थर तो उछालो यारो, इस कहावत को पूरी तरह चरितार्थ किया है एक दिव्यांग ने। बेबसी और लाचारी तो उनकी जिंदगी में ईश्वर ने दी है,बावजूद इसके हौसलों की उड़ान कभी कम नहीं हुई।गरी बी का दंश झेल है उपेंद्र कुमार यादव ने इंटर की पढ़ाई तो पूरी की है और वह आगे भी पढ़ना चाहता है।वैश्विक कोरोना महामारी ने गांवों में स्कूली शिक्षा को पूरी तरह से चौपट कर दिया है।लेकिन दिव्यांग उपेन्द्र कुमार यादव आज भी गाँव मे शिक्षा का अलख जगा रहे हैं। संसाधनों की भारी कमी के बावजूद भी। लेकिन मन में कुछ करने की जज्बा और बुलंद इरादे लेकर वह अपने गांव के बच्चों को स्कूली शिक्षा दे रहे है। उनकी इस अदम्य साहस किसी कहानी से कम नहीं लगती है।

- Advertisement -

चतरा जिला की कान्हाचटी प्रखंड के सुदूरवर्ती गांव में से एक है लारालुटूदाग।नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले इस गांव में चलने के लिए कच्ची सड़क भी नहीं है। गांव के लोगों को पगडंडियों के सहारे चलना पड़ता है। लेकिन लारा लुटु दाग गांव के उपेंद्र कुमार यादव अपनी मां और चार भाई- बहनों के साथ मिट्टी के घर में रहते हैं।इनके पिता गुजरात में महज ₹8000 की नौकरी करते हैं। और उन्हीं रुपयों से इनका गुजर बसर चलता है। काफी मशक्कत करने के बाद उन्होंने इंटर की पढ़ाई तो पूरी की है और वह आगे भी पढ़ना चाहता है। लेकिन उससे भी हैरानी की बात यह है कि कोरोनावायरस के दौरान पूरे देश में आए लोक डाउन के बाद गांव में स्कूली बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह चौपट हो गई। इस इस गांव में ना तो किसी के पास स्मार्ट फोन है और ना ही किसी भी मोबाइल कंपनी का नेटवर्क।ऐसे में ऑनलाइन पढ़ाई की बात तो पूरी तरह बेमानी है। लेकिन उपेंद्र कुमार यादव ने साहसिक काम किया और उन्होंने गांव के बच्चों को स्कूली शिक्षा देना शुरू किया है। उन्होंने अपने साहस का परिचय देते हुए अपने घर से करीब डेढ़ किलोमीटर दूर रेंगते हुए चलकर एक टूटी फूटी सरकारी भवन में पहुंचते हैं। उसी परिसर में बच्चों को दो शिफ्ट में पढ़ाते हैं। पहली से पांचवीं कक्षा के छात्र छात्राओं को सुबह 7:00 बजे से 9:00 बजे तक पढ़ाते हैं जबकि 7 वी से नौवीं कक्षा के छात्र-छात्रों को 9:00 बजे से 11:00 बजे तक पढ़ाते हैं।उपेंद्र कुमार यादव ने बताया कि संसाधनों की कमी के बावजूद इन छात्रों के बीच पठन पाठन की सुविधा अपने बल पर किया जा रहा है उसने बताया कि वह खुद भी पढ़ना चाहता है और पूरे समाज को शिक्षित बनाना चाहता है।उन्होंने राज्य सरकार से अपने चलने के लिए एक तीन पहिया स्कूटी की भी मांग की है। उपेंद्र यादव के साहस से गांव वाले तो काफी प्रभावित हैं और वे मानते भी हैं सरकार को उन्हें ट्राय स्कूटी जल्द से जल्द उपलब्ध करा देना चाहिए ।जबकि कान्हाचट्टी प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी हुलास महतो का कहना है कि उपेंद्र कुमार यादव के अदम्य साहस की चर्चा सुनी है। उन्होंने कहा कि यदि वे आवेदन देंगे जो कल्याण विभाग से उन्हें जाए साइकिल मिल सकता है।इसके अलावा उन्होंने बताया कि उपेंद्र कुमार यादव को प्रधानमंत्री आवास योजना का भी लाभ मिलेगा। दिव्यांग उपेंद्र यादव अपने जिला चतरा सहित पूरे प्रेदश में नाम रोशन करना चाहता है। उन्होंने कहा कि दिव्यांगता मेरे लिए कभी अभिशाप नहीं रहा है।लेकिन मेरी जज्बात ऐसा अवश्य है जिससे लोगों को शिक्षित कर सकें और इसका लाभ पूरे समाज को मिलेगा। कोरोना संक्रमण से गांव में स्कूल की व्यवस्था पूरी तरह चौपट कर दी है यदि स्थानीय लोगों के द्वारा इन बच्चों को पठन-पाठन की सुविधा उपलब्ध कराई जाए तो ही शिक्षा का अलग गांव में बच पाएग।

- Advertisement -

1 बाइट-उपेंद्र कुमार यादव, दिव्यांग

2 बाइट-बसंत कुमार,पारा शिक्षक सह ग्रामीण

3 बाइट-सुरेश साव, प्रखंड अध्यक्ष झामुमो

4 बाइट-हुलास महतो,प्रखंड विकास पदाधिकारी

- Advertisement -

READ THIS ALSO

Related Articles

बच्चे की पोखरा मे डूबने से मौत, परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल

गढ़वा : जिले के कांडी थाना क्षेत्र अंतर्गत घोड़दाग गांव निवासी अवध यादव का बड़ा पुत्र 8 वर्षीय कृष्ण कुमार की मौत...

कोवैक्सिन कोरोना के खतरनाक डेल्टा प्लस वैरिएंट पर भी कारगर साबित

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने सोमवार को दावा किया है कि कोवैक्सिन कोरोना के खतरनाक डेल्टा प्लस वैरिएंट पर भी...

विवाहिता बेटी के पूर्व प्रेमी को पीटना पड़ा महंगा,पिता पुत्री माता व भाई पर जानलेवा हमला,मृत समझ छोड़ा,एमजीएम में…

चाईबासा: नीमडीह थाना अंतर्गत डुमरी में विवाहित पुत्री के पूर्व प्रेमी को प्रेमिका के पति के द्वारा पिछले कुछ दिन पूर्व पीटना महंगा पड़ा।...
- Advertisement -

Latest Articles

बच्चे की पोखरा मे डूबने से मौत, परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल

गढ़वा : जिले के कांडी थाना क्षेत्र अंतर्गत घोड़दाग गांव निवासी अवध यादव का बड़ा पुत्र 8 वर्षीय कृष्ण कुमार की मौत...

कोवैक्सिन कोरोना के खतरनाक डेल्टा प्लस वैरिएंट पर भी कारगर साबित

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने सोमवार को दावा किया है कि कोवैक्सिन कोरोना के खतरनाक डेल्टा प्लस वैरिएंट पर भी...

विवाहिता बेटी के पूर्व प्रेमी को पीटना पड़ा महंगा,पिता पुत्री माता व भाई पर जानलेवा हमला,मृत समझ छोड़ा,एमजीएम में…

चाईबासा: नीमडीह थाना अंतर्गत डुमरी में विवाहित पुत्री के पूर्व प्रेमी को प्रेमिका के पति के द्वारा पिछले कुछ दिन पूर्व पीटना महंगा पड़ा।...

स्कूटी को टेलर ने कुचला,सवार की दर्दनाक मौत

जमशेदपुर: बर्मामाइंस थाना अंतर्गत बर्मामाइंस मुख्य दुर्गा पूजा मैदान के गोल चक्कर के पास अनियंत्रित डंपर संख्या जेएच 05 बी 65039 स्कूटी सवार...

भारत का पहला शहर जिसनें 100% वैक्सीनेशन का लक्ष्य किया पूरा,7 महीने मे 18 लाख से ज्यादा वैक्सीन डोज लगाए

ऐजेंसीःओडिशा का भुवनेश्वर शहर 100% वैक्सीनेशन करने वाला देश का पहला शहर बन गया है। यानी यहां 18 साल से ज्यादा उम्र...