मुकेश अंबानी के घर के बाहर मिली कार के मालिक की संदिग्ध मौत,मामले में नया मोड़.. देखें वीडियो

0

एजेंसी:मुकेश अंबानी के आवास ‘एंटीलिया’ के बाहर विस्फोटक के साथ मिली कार के मामले में नया ट्विस्ट आ गया है। उसके मालिक मनसुख हिरेन की संदिग्ध मौत चर्चा का विषय बन गई है। राजनीति भी उफान पर आ गई है। हालांकि पुलिस की निगाह में फिलहाल तक क्या मामला आत्महत्या का माने जाने की खबर है। इधर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने जांच अधिकारी पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा है कि हिरेन को सुरक्षी दी जानी चाहिए, क्योंकि उसकी जान को खतरा हो सकता है। फणडवीस ने कहा है कि जांच अधिकारी सचिन वाझे और हिरेन पहले ही संपर्क में थे।

खबरों के मुताबिक कालवा ब्रिज से कूदकर अपनी जान दी है।मनसुख हिरेन ने कहा था कि उनकी कार चोरी हो गई थी और उन्होंने इसके लिए एफआईआर भी दर्ज कराई थी।उनकी स्कॉर्पियो कार से जिलेटिन की 20 छड़ें बरामद हुई थीं।

देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को ही विधानसभा में इस मामले की जांच एनआईए से कराने की मांग की थी। विधानसभा के बाहर पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने फिर से आरोप लगाया।

फडणवीस ने कहा, जिस दिन मनसुख हीरेन की कार चोरी हुई थी और उनकी गाड़ी जहां खराब हुई। वहां से वह कार से उतर कर क्राफ्ट मार्केट पहुंचे वहां एक शख्श से मुलाकात की। वही व्यक्ति इस पहेली की सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है।

उन्होंने यह भी सवाल उठाया कि गाड़ी जब एंटीलिया के बाहर मिली। उस वक्त भी सबसे पहले पुलिस अफसर सचिन वाझे वहां कैसे पहुंचे। उन्हीं को वह चिट्ठी कैसे मिली? गाड़ी चोरी हुई वह भी ठाणे की, आईओ का घर भी ठाणे में। स्कॉर्पियो के साथ जो दूसरी गाड़ी इनोवा आई थी वह भी ठाणे से।

पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने यह भी सवाल उठाया कि मैंने पहले मनसुख की सुरक्षा की मांग उठाई थी और तोउन्होंने सचिन को आयो अप्वॉइंट करने पर भी सवाल उठाया।

उन्होंने कहा कि उसके बाद जैश-उल-हिंद की तथाकथित पत्र जिम्मेदारी लेने वाली आई, लेकिन जैसे उल हिंद ने इस पत्र को गलत बताया।

उन्होंने कहा कि खबर मिली है कार मालिक मनसुख की डेड बॉडी मिली है। इससे पूरा प्रकरण बहुत गंभीर हो रहा है। दाल में काला है। केस के सबसे बड़े विटनेस जांच के दौरान ही मृत पाया जाना संदेह के घेरे में है।