राहे में अंबेडकर जयंती के अवसर पर संविधान बचाओ दिवस मनाया गया

0

राहे में भीमराव अंबेडकर की 130 वीं जयंती के अवसर पर संविधान बचाओ दिवस राहे,पुरनानगर,नवाडीह में मनाया गया। अंबेडकर के चित्र पर माल्यार्पण के पश्चात संविधान की रक्षा एवं किसान आन्दोलन तेज करने का लिया शपथ । मुख्य वक्ता के रूप में किसान नेता सुफल महतो ने अंबेडकर के जीवनी पर विस्तृत चर्चा करते हुए कहा भारतीय संविधान के निर्माण में अंबेडकर के योगदान को सदैव याद रखा जाएगा। समानता, भाईचारा के लिए, भेद भाव ,छुआ-छूत एवं नफ़रत की राजनीति के खिलाफ अंबेडकर की विचारधारा सबसे ज्यादा प्रासंगिक है। संविधान , लोकतंत्र एवं स्वतंत्रता पर हमले के खिलाफ अंबेडकर के रास्ते एकजुट संघर्ष की आवश्यकता है। देशव्यापी किसान आंदोलन कृषि कानून की वापसी तक जारी रहेगा।इस अवसर पर परमेश्वर मछुवा, बलराम पातर, चरकु पात्र हाड़िया हरिजन कालों शशि,चैती देवी,बाला देवी,कमला देवी,केशवती देवी,टूसू देवी,महेनद लोहरा,लखीचरण लोहरा, मनसा मछुवा,शासकीय देवी, बिमला देवी, सावित्री देवी,कर्म चन्द मछुआ,पूरन पात्र,नकुल मछूआ,सकिना मछुवा,बाबू नायक, महावीर नायक,अघनु नायक, लखविन्द्र नायक,मुंगा नायक, सोनिया देवी, गायत्री देवी,राजो बाला देवी, रेवती देवी, सुनीता देवी,भक्तु हरिजन,,राहुल हरिजन,गायिका देवी आदि उपस्थित थे।