लॉक डाउन: छत्तीसगढ़ में फंसे 50 मजदूरों ने गढ़वा पहुंचकर ली राहत की सांस, कहा.. भूख से

0

गढ़वा : झारखंड सरकार के पेयजल व स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर की पहल रंग लाई और झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से संपर्क साधा और छत्तीसगढ़ में लॉक डाउन के कारण गढ़वा के फंसे 4 दर्जन से भी अधिक मजदूर सुरक्षित गढ़वा लौट गए। जो कि छत्तीसगढ़ में भूख और प्यास से बिलख रहे थे। मजदूरों का कहना था कि वहां उन्हें ना पानी मिल रहा था ना खाना। जो जहां थे वहीं कैद होकर रह गए थे।

इस बात की सूचना झारखंड सरकार के पेयजल व स्वच्छता मंत्री और क्षेत्रीय विधायक मिथिलेश ठाकुर को मिली कि छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में गढ़वा के लगभग चार दर्जन मजदूर फंसे हुए हैं। लॉक डाउन और कर्फ्यू के कारण वे कैद हैं। वे घर आना चाह रहे हैं लेकिन उनकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। मंत्री ने त्वरित पहल की और इस संदर्भ में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से बात की।मुख्यमंत्री ने मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्काल छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को ट्वीट कर मामले की जानकारी दी और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने सभी मजदूरों को खाने-पीने की व्यवस्था के साथ उनका मेडिकल चेकअप करवा कर उन्हें सुरक्षित झारखंड की सीमा तक भेजवा दिया। वहां से झारखंड सरकार के द्वारा सभी मजदूरों को गढ़वा जिला प्रशासन की व्यवस्था से घर पहुंचाया जा रहा है।