Advertisement

वकीलों से खार खाई दिल्ली पुलिस सड़कों पर, नहीं सुन रहे हैं अधिकारियों की मिन्नतें

- Advertisement -
- Advertisement -

दिल्ली:तीस हजारी कोर्ट के बार पुलिस और वकीलों में हुई हिंसक झड़प का मामला शांत होने का नाम नहीं ले रहा। सोमवार को साकेत कोर्ट के बाहर भी एक पुलिसवाले को फिर वकीलों द्वारा पीटे जाने की घटना के बाद पुलिसकर्मियों का भी मंगलवार को गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने दिल्ली पुलिस मुख्यालय के सामने प्रदर्शन किया।

- Advertisement -

बढ़ते प्रदर्शन को देखकर कमिश्नर भी प्रदर्शनकारियों से मिलकर पहुंचे। कमिश्नर ने कहा कि दिल्ली पुलिस एक प्रतिष्ठित फोर्स है और यह सभी के लिए परीक्षा की घड़ी है। उन्होंने कहा कि दिल्ली हाई कोर्ट की तरफ से गठित एक जुडिशल कमेटी इस मामले की जांच कर रही है।वकीलों द्वारा पुलिसवालों की पिटाई के विरोध में मंगलवार सुबह से ही दिल्ली पुलिसकर्मी पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं.

- Advertisement -

इससे पहले प्रदर्शन कर रहे पुलिसवालों से पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने कहा है कि यह दिल्ली पुलिस के लिए परीक्षा, प्रतीक्षा और अपेक्षा की घड़ी है. उन्होंने कहा कि यह याद रखें कि हम अपना बर्ताव कानून के रखवाले की तरह करें.
दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने कहा की पुलिस वालों से मारपीट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी. इसके साथ ही पुलिस कमिश्नर ने पुलिसकर्मियों से काम पर लौट जाने की भी अपील की.
हालांकि पुलिस कमिश्नर की आश्वासन के बाद भी प्रदर्शन कर रहे पुलिसवाले नहीं माने और वह अब भी पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर डटे हैं.बता दें प्रदर्शनकारी दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग रहे हैं. मंगलवार सुबह से ही पुलिस मुख्यालय के बाहर पुलिसकर्मी जुटने लगे. कई वरिष्ठ पुलिस ने अधिकारियों ने उन्हें समझाने की कोशिश की लेकिन उन्होंने प्रदर्शन करना जारी रखा. आखिरकार स्पेशल कमिश्नर (क्राइम) सतीश गोलचा ने प्रदर्शनकारियों को आश्वासन दिया कि पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक उनसे बात करेंगे.
इससे पहले स्पेशल कमिश्नर (लॉ एंड ऑर्डर आरएस) कृष्णैया ने प्रदर्शनकारी पुलिसकर्मियों को शांत करने की कोशिश करते हुए कहा, ‘पुलिसवालों का गुस्सा बिल्कुल सही लेकिन मुद्दे को सड़क पर उठाएंगे तो किसको फायदा होगा.’ हालांकि प्रदर्शनकारी उनकी बात सुनने को तैयार नहीं थे. पुलिसकर्मी ‘वी वॉन्ट जस्टिस के नारे लगा रहे थे.इससे पहले प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मियों से डीसीपी ईश सिंघल ने बात की और उनसे संयम बरतने को कहा. डीसीपी सिंघल ने कहा, ‘आपको जिस बात से रोष है वह ऊपर तक पहुंच चुका है और आपका यहां आना विफल नहीं जाएगा. उन्होंने कहा, ‘हम अपना काम न छोड़े, अपने अपने काम पर लौटे, संयम बनाएं रखें, दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होगी’
क्या कहना है प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मियों का?
प्रदर्शन में शामिल एक महिला पुलिसकर्मियों ने कहा, ‘जब हम सेफ नहीं तो दूसरों का क्या सुरक्षा देंगे’ प्रदर्शन में शामिल एक सब इंस्पेक्टर की पत्नी ने कहा, अगर पुलिस सड़कों पर पिटती रही तो इसका क्या असर पड़ेगा. अपराधी पुलिस से कैसे डरेंगे.एक अन्य पुलिसकर्मी ने कहा, हमारे साथियों को बुरी तरह पीटा गया, हम चाहते हैं इस मामले में इंसाफ हो और आरोपियों को सजा मिले.
आईटीओ पर लगा लंबा जाम
दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट कर लोगों को सलाह दी है कि वे आईटीओ से लक्ष्मी नगर जाने के लिए दिल्ली गेट और राजघाट के रस्ते जाएं.’पुलिसकर्मियों के साथ उनके परिवार वाले भी प्रदर्शन में शामिल हुए. इनकी मांग है कि आरोपी वकीलों के खिलाफ कार्रवाई हो.
क्या है विवाद?

बता दें सोमवार को साकेत कोर्ट का एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें एक पुलिसकर्मी को कुछ वकील पीट रहे थे. बता दें शनिवार को तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच हुई झड़प के बाद यह सोमवार को दिल्ली की सभी अदालतों में वकील हड़ताल पर थे.

बता दें शनिवार को दिल्ली की तीस हजारी अदालत से यह सारा बवाल शुरू हुआ. जहां किसी बात पर पुलिस-वकीलों के बीच तू-तू मैं मै हाथापाई में बदल गई.

- Advertisement -

READ THIS ALSO

Jharkhand Varta

Related Articles

- Advertisement -

Latest Articles