विस चुनाव के तीसरे चरण के मतदान के पूर्व किस पार्टी के हाथ पांव फूले…..

0

जमशेदपुर:( रिपोर्ट :सतीश सिन्हा की)झारखंड विधानसभा चुनाव का दूसरा चरण का मतदान खत्म होने के बाद सभी पार्टियों ने तीसरे चरण के चुनाव में अपनी पूरी ताकत लगा दी है अपने स्टार प्रचारकों को प्रचार में लगा दिया । जो तीसरे चरण में 12 दिसंबर को होने वाले वोटिंग वाले क्षेत्रों में पूरी ताकत लगा चुके हैं। इस चरण में 17 विधानसभा सीटों के लिए वोटिंग होगी लेकिन यह चरण आजसू सुप्रीमो और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुदेश महतो की पार्टी ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन के लिए चुनौती पूर्ण बताया जा रहा है क्योंकि इस चरण का मतदान न केवल सुदेश महतो का, बल्कि पूरे आजसू का राजनीतिक भविष्य तय करेगा।

चर्चा है कि जिन 17 सीटों पर वोटिंग होनी है उसमें से 13 ऐसी सीटें हैं जहां आजसू के प्रत्याशी चुनाव मैदान में ताल ठोकने में लगे हैं।खबरों के मुताबिक सिल्ली विधानसभा भी शामिल है, जहां से सुदेश महतो खुद चौथी बार जीत दर्ज करने के लिए एड़ी चोटी एक किए हुए हैं ताकि विधानसभा पहुंच सके।

वहीं इसके अलावा पिछले तीन बार से लगातार रामगढ़ से पूर्व विधायक चंद्रप्रकाश चौधरी के सांसद बन जाने के बाद आजसू ने इस चुनाव में उनकी पत्नी सुनीता चौधरी को मैदान में उतार कर यह सीट अपने कब्जे में ही रखना चाहती है।

गौरतलब है कि आजसू ने रांची से वर्षा गाड़ी को चुनाव मैदान में उतारा है। खास बात यह है कि आजसू की नेता रहीं वर्षा इससे पहले झामुमो की ओर से रांची मेयर का चुनाव लड़ चुकी हैं लेकिन इस चुनाव में उन्होंने झामुमो कोई झटका देकर फिर से आजसू की शरण में चली गई है और इसका फायदा उन्हें मिला। वहीं गोमिया से आजसू ने अपने पुराने नेता लंबोदर पाठक को दूसरी बार तथा बडक़ागांव से अपने वरिष्ठ नेता रोशनलाल चौधरी पर तीसरी बार गांव लगाते हुए चुनाव मैदान में उतारा है। उल्लेखनीय है कि बिहार से अलग होकर झारखंड राज्य बनने के बाद से ही भाजपा की सहयोगी रही आजसू इस चुनाव में अकेले चुनाव मैदान में है। इस चुनाव में आजसू ने 52 सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं।

विदित हो कि 12, 16 और 20 दिसंबर को तीन चरणों का मतदान होना है। मतगणना 23 दिसंबर को होगी।

अभी बात गौरतलब है कि पिछले विधानसभा चुनाव में आजसू आठ सीटों पर लड़ी थी और पांच सीटों पर उसने जीत दर्ज की थी। आजसू का किसी पार्टी के साथ प्रत्यक्ष गठबंधन नहीं है। इसलिए यह चुनाव प्रतिष्ठा बचाने वाला हो गया है आजसू के नेता कार्यकर्ता जीत के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।