शराब बिक्री: राजस्व में कमी से चिंतित प्रदेश सरकार सुबह 9 से रात 9 तक दुकान खोलने की तैयारी में

0

रांची : प्रदेश में शराब बिक्री से जिस राजस्व की परिकल्पना प्रदेश सरकार ने की थी उतना फिलहाल राजस्व की प्राप्ति प्रदेश सरकार को नहीं हो रही है इसलिए प्रदेश सरकार चिंतित नजर आ रही है और राजस्व बढ़ाने के लिए झारखंड में अगले महीने से सुबह 9 बजे से रात नौ बजे तक शराब दुकानें खोलने पर विचार कर रही है। जो कि फिलहाल सुबह 7 से शाम 7 बजे तक ही खुलती है। वहीं खबर यह है कि ऐसा 1 जून से हो सकता है। इसके लिए प्रदेश सरकार का उत्पाद विभाग शराब व्यवसायियों से फीडबैक ले रहा है।

वहीं दूसरी ओर आबकारी विभाग के मंत्री जगरनाथ महतो के मुताबिक सरकार को इस वित्तीय वर्ष में राजस्व का काफी नुकसान हुआ है। आगे भी अभी बड़ी राहत नहीं दिख रही है।

इधर इस मामले में झारखंड शराब व्यवसायी संघ का कहना है कि शाम के सात बजे दुकाने बंद हो जाने से शराब की 70 फीसदी बिक्री कम हो गई है।

सूत्रों के अनुसार एक अनुमान के मुताबिक लॉकडाउन के दौरान प्रदेश सरकार को लगभग 400 करोड़ रुपए के राजस्व की क्षति हो चुकी है। जिसकी भरपाई करने के लिए सरकार जुगत भिड़ा रही है।

सूत्रों के हवाले से मिली खबर के अनुसार लॉकडाउन 4 की समाप्ति के बाद 1 जून से शराब दुकानों के समय सीमा बढ़ाने पर निर्णय लिया जा सकता है। शराब से राजस्व बढ़ाने के लिए कोरोना सेस के रूप में अतिरिक्त शुल्क लिया जा रहा है और वैट भी बढ़ायी गई है।इसके बावजूद अनुमानित राजस्व नहीं प्राप्त हो रहा है।

इधर एक अन्य खबर के मुताबिक संध के सचिव सुबोध ने विभागीय मंत्री जगरनाथ महतो को भी इस संदर्भ में ज्ञापन सौंपा है और ज्ञापन में कहा है कि लॉकडाउन खुलने के बाद भी ग्राहकों की भीड़ पर सितंबर तक असर पड़ेगा। सामान्य स्थिति बहाल होने में लंबा समय लग सकता है।