श्रीरामपुर में प्रतिबंधित मांस बिक्री की खबर,ग्रामीण उग्र, पुलिस की सक्रियता से मॉब लिंचिंग टली,तनाव

0

धनबाद:तोपचांची अंचल के श्रीरामपुर गांव में गुरुवार की सुबह उस समय दो समुदायों के बीच तनाव व्याप्त हो गया। जब निजामुद्दीन अंसारी के घर पर विवाह समारोह के भोज के लिए प्रतिबंधित पशु काटे जाने की खबर फैली। उसके घर के पास लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई। हालांकि इस बात की खबर मिलते ही आनन-फानन में तोपचांची थाना और हरिहरपुर थाना की पुलिस मौके पर पहुंच गई और स्थिति को किसी तरह नियंत्रित किया। वरना मॉब लिंचिंग ऐसी घटना घटित हो जाती। भीड़ आरोपित को हवाले करने की मांग कर रहा था। इसी बीच आरोपित अपनी जान बचाने के लिए घर के पिछवाड़े दरवाजे से भाग कर थाने पहुंच गया।पुलिस ने आरोपी की घर से एक महिला को हिरासत में लिया। मौके पर पुलिस ने आरोपित के घर की तलाशी ली और वहां से प्रतिबंधित मांस, पशु वध करने का धारदार चापड़ और वजन करने वाला तराजू जब्त किया।उसके बाद उग्र ग्रामीण शांत हुए। इस घटना को लेकर श्रीरामपुर गांव में संप्रदायिक तनाव कायम रहने की खबर है। भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती से फिलहाल स्थिति नियंत्रित रहने की खबर है। लोग आरोपित को फांसी देने की मांग कर रहे थे। पशु वध करने वालों को सख्त कार्रवाई करने की मांग कर रहे थे।

बताया जाता है कि बुधवार की देर रात गांव में यह खबर फैली कि एक विशेष समुदाय के घर में शादी समारोह के मौके पर भोज के लिए प्रतिबंधित पशु का कत्ल किया गया है। इस खबर की पुष्टि करने के लिए कुछ युवक आरोपित के घर पहुंचे। जहां उन्होंने प्रतिबंधित मांस देखा। उसके बाद पूरे गांव में इस खबर की चर्चा होने लगी और गुरुवार तड़के लगभग 4:00 बजे के आसपास ग्रामीणों की भीड़ उसके घर के पास जमा हो गई और टायर जलाकर हंगामा शुरू कर दिया।

ग्रामीणों का आरोप था कि आरोपित द्वारा प्रतिबंधित पशु की हत्या कर मांस बिक्री का धंधा किया जाता है। बाहरी लोग भी खरीदारी करने आते हैं। उसी वक्त कुछ खरीदार भी वहां मौजूद थे लेकिन लोगों का हुजूम और हंगामा देख चलते बने।

इधर दूसरी ओर पुलिस को इस बात की सूचना मिली और पुलिस मौके वारदात पर पहुंची। जबकि आरोपी भागकर पिछले दरवाजे से थाना पहुंच गया था। ग्रामीणों की मांग थी कि आरोपी को फांसी दी जाए।