सेना भर्ती में धर्म प्रमाण पत्र से अही समस्याओं को लेकर जिला उपायुक्त को ज्ञापन सौंपा ।

0

कोल्हान,चाईबासा:-पिछले दिनांक 13.03.2021 को कोल्हान_नितिर_तुरतुंग के तत्वावधान में चाईबासा,गोईलकेरा,बंदगांव,चक्रधरपुर से कुल 60 अभ्यर्थियों को मोहराबादी मैदान में आयोजित होनेवाले भारतीय सेना भर्ती रैली कार्यक्रम में शामिल होने हेतु टाटा कॉलेज मैदान,चाईबासा व पोडा़हाट स्टेडियम,चक्रधरपुर में कई हफ्तों से रोजाना सुबह निःशुल्क प्रशिक्षण उपलब्ध करवाने के बाद रैली-स्थल तक भी निःशुल्क पहुँचाने के लिए बस की व्यवस्था की गई थी।

टीम के सक्रीय-सदस्यों द्वारा दिन-रात एक करके भर्ती के लिए जरुरी दस्तावेजों को बनवाने में अभ्यर्थीयों की काफी मदद की गई जिसके दौरान टीम को कुछ पेचीदा और तकनीकी समस्याओं का सामना करना पड़ा।

जिनमें मुख्य रुप से #धर्म_प्रमाण_पत्र के लिए जिलाधिकारियों को कोई सटिक निर्देश नहीं मिलना, #पुराना_जाति_प्रमाण_पत्र (DC द्वारा निर्गत)का मान्य नहीं होना और आनन-फानन में बनने/बनाए जाने वाला,मात्र 48 घंटे तक मान्य, #कोविड_फ्री_प्रमाण_पत्र का समय में उप्लब्ध ना हो पाना आदि शामिल है।

पूर्व चक्रधरपुर विधायक आदरणीय शशि भूषण सामड जी के मार्गदर्शन में चक्रधरपुर अनुमण्डल के पदाधिकारीयों के साथ समनव्य स्थापित कर हालांकि सारे कागजात लगभग बन ही गए पर अब चाईबासा व सरायकेला-खरसांवां के अभ्यर्थियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है ।

ज्ञात हो कि दिनांक 10/03/2021 से मोहराबादी मैदान रांची (झारखण्ड) में भारतीय-सेना की भर्ती रैली का आयोजन हो रहा है जिसमे कोल्हान क्षेत्र के चाईबासा

व सरायकेला-खरसांवां के भी बहुत सारे लड़कों को भर्ती मे हिस्सा लेना हैं और उनके पास अपना-अपना एडमिट कार्ड भी आ गया है पर उन्हें निम्नांकित दस्तावेजों के उपलब न रहने की वजह से सेना भर्ती रैली कार्यक्रम में शामिल होने से वंचित रह जाने का डर सता रहा है क्योंकि”भारतीय सेना”के वर्तमान अधिसूचना के अनुसार रैली कार्यक्रम में होने के लिए आवश्यक कागजातों के अलावा जो हिंदू,मुस्लिम,सिख या ईसाई धर्म के अंतर्गत नहीं आते उन्हें स्थानीय ग्रामीण मुंडा के द्वारा सत्यापित कर,तहसीलदार या SDO द्वारा निर्गत धर्म-प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना आवश्यक है।

चूंकि यह क्षेत्र आदिवासी बहुल क्षेत्र है और आदिवासी(हो/मुंडा/संथाल/उरांव आदि)जनजाति से सम्बंधित बहुत से लड़के हैं जो आवेदन के समय धर्म के कॉलम मे others(सरना)भरे हैं क्योंकि पूर्वजों के समय से ये लोग लोग प्रकृति पूजा मे आस्था रखते हैं और सरना धर्म को मानते हैं।इधर भारतीय-सेना में भर्ती होने के लिए यदि धर्म प्रमाण पत्र प्रस्तुत नहीं कर पाते हैं तो उन्हें अयोग्य घोषित किया जा रहा है।

यह भी पता चला है कि धर्म प्रमाण पत्र सरकारी स्तर पर बनाने के लिए अभ्यर्थियों को ये कहते हुए मना किया जा रहा है कि इस विषय मे सरकार कि तरफ से कोई सटीक दिशा निर्देश नहीं मिला है…..

ऐसा होना अभ्यर्थीयों के द्वारा की गई कई हफ्ते की कड़ी मेहनत पर पानी फिर जाने जैसा ही होगा।

अतः इसके समाधान हेतु आज दिनांक 15.03.2021 को #कोल्हान_नितिर_तुरतुंग के पदाधिकारी-गणों का एक प्रतिनिधि मंडल सरायकेला_खरसांवां_के_उपायुक्त से मुलाकात करने गया।औचक कार्यक्रम बनने की वजह से हालांकि #उपायुक्त_महोदय से तो मुलाकात नहीं हो सकी इसलिए हमारे प्रतिनिधियों द्वारा जिले के DDC_आदरणीय_प्रवीण_कुमार_गगराई_के_माध्यम_से जिले के #उपायुक्त_महोदय को अपना ज्ञापन सौंप दिया गया।

ज्ञापन के माध्यम से #जिला_उपायुक्त_सरायकेला_खरसांवां से निम्नांकित मांग की गई है……

(1) धर्म_प्रमाण_पत्र यदि मांगा जा रहा है और इसका ना होना अगर अभ्यर्थियों को सेना भर्ती रैली में शामिल होने से रोक रहा है तो उसे यथाशीघ्र,अविलम्ब निर्गत करवाया जाए।

(2) जाति_प्रमाण_पत्र पुराना वाला अगर मान्य नहीं हो रहा है तो तमाम प्रज्ञा-केद्रों,इसे निर्गत करने वाले तमाम अधिकारियों को त्वरित निर्देश दिया जाए कि यथाशीघ्र प्रक्रिया पूरी कर नया प्रमाण-पत्र निर्गत किया जाए तथा…..

(3)सवास्थ्य विभाग के द्वारा कोविड_फ्री_प्रमाण_पत्र तय समय-सीमा में जारी कर दिया जाए ताकि कोई भी अभ्यर्थी इस भारतीय सेना भर्ती रैली के कार्यक्रम में शामिल होने से वंचित ना रह जाएं !!

उम्मीद है कि विभाग जल्द ही इस मामले को संज्ञान में लेकर उचित समाधान उपलब्ध करवाएगी……

कोल्हान_नितिर_तुरतुंग की ओर से प्रतिनिधि मंडल में संस्थान के #अध्यक्ष_प्रकाश_लागुरी #कोषाध्यक्ष_सिंगराय_बोदरा #सलाहकार_समीति_के_सावन_सोय आदि मुख्य रुप से मौजूद थे !!