हजारीबाग और पलामू में नक्सलियों का उत्पात, कंस्ट्रक्शन कंपनी के कई वाहनों को फूंका, मजदूरों को पीटा

0

हजारीबाग: केरेडारी थाना क्षेत्र के किरीगड़ा के समीप दामोदर नदी पर निर्माणाधीन पुल के कंस्ट्रक्शन साइट पर बीती रात हथियार से लैस करीब दर्जन भर नक्सलियों ने उत्पात मचाया और निर्माण कार्य में लगे कई गाड़ियों और उपकरणों को फूंक दिया।

वहीं दूसरी घटना पलामू के पिपरा थाना क्षेत्र के सरिया पंचायत के होलिया गांव एक ईट भट्ठे में टीपीसी के नक्सलियों द्वारा मजदूरों के साथ मारपीट करने के अलावा एक ट्रैक्टर को आग के हवाले करने की खबर है। घटना को अंजाम देने के बाद नक्सलियों द्वारा पर्चा छोड़े जाने की भी खबर है।

इधर घटना की पुष्टि करते पीपरा थाना प्रभारी निरंजन कुमार ने की है।घटना की जानकारी मिलने पर छतरपुर एसडीपीओ शम्भु सिंह और हरिहरगंज के इंस्पेक्टर वंश नारायण सिंह मौके पर पहुंचे।उन्होंने बताया कि ईंट भट्ठे में 5 की संख्या में नक्सली लाठी-डंडे और हथियार के साथ पहुंचे। नक्सलियों ने आगजनी और मारपीट की घटना को अंजाम दिया।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार केरेडारी थाना क्षेत्र के किरीगड़ा मैं दामोदर नदी पर पुल बनने के कंस्ट्रक्शन साइट पर काम कर रहे मजदूरों को नक्सलियों ने अपने कब्जे में ले लिया उसके बाद जेसीबी, पोकलेन सहित निर्माण में लगे कई मशीनों को आग में फूंक दिया।

वहीं हजारीबाग एसपी के द्वारा घटना की पुष्टि करते हुए बताया गया कि इस घटना में किस दस्ते का हाथ है इसके बारे में पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है।

दूसरी ओर खबरों के अनुसार पलामू के पिपरा थाना क्षेत्र के सरिया पंचायत होलिया गांव में ईट भट्टा पर भी नक्सलियों ने धावा बोलकर वहां के मजदूरों को मारा पीटा और ट्रैक्टर को आग के हवाले कर दिया। घटना के बाद नक्सलियों द्वारा यहां पर चार छोड़े जाने की भी खबर है।

गौरतलब है कि झारखंड विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद नक्सली घटनाओं से चिंतित डीजीपी कमल नयन चौबे ने डीजीपी सहित संबंधित 5 जिलों के जिलों के एसपी की बैठक बुलाई और उन्हें वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए खरी खोटी सुनाई थी।

उन्होंने कहा है कि नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई तेज करने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि थाने से लेकर एसपी तक की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। जिन पांच जिलों के एसपी व रेंज डीआइजी के साथ डीजीपी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग की उनमें चतरा, हजारीबाग, पलामू, लातेहार व लोहरदगा के एसपी के अलावा हजारीबाग व पलामू के रेंज डीआइजी शामिल थे।

इसके बावजूद नक्सली अपना खौफ कायम कर लेवी वसूली की खातिर दहशत का माहौल कायम किए हुए हैं।