Advertisement

हार्डकोर नक्सली से चुनावी मैदान तक का सफर

- Advertisement -

रांची: पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण करने वाले हार्डकोर नक्सली कुंदन पाहन झारखंड के तमाड़ विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमाने के लिए राजनीति के रण में कूद चुका है। इसके लिए उसके द्वारा एनआईए कोर्ट में आवेदन देकर तमाड़ विधानसभा चुनाव क्षेत्र से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की जिससे एनआईए कोर्ट ने आज मंजूर कर दिया।

झारखंड के खूंटी जिले के अड़की प्रखंड के बड़ी गड़ा गांव निवासी कुंदन पाहन का असली नाम वीर सिंह पाहन है जमीन को लेकर परिवारिक विवाद के बाद कुंदन पाहन ने हथियार उठाकर नक्सलियों से हाथ मिला लिया। उसके साथ साथ उसके दो भाइयों ने भी नक्सलियों से हाथ मिला लिया था। लेकिन बाद उसके दिम्बा नामक भाई ने आत्मसमर्पण कर दिया वहीं दूसरे भाई श्याम पहन को पंजाब पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।

- Advertisement -

कुंदन पहन पर चलने वाले मामलों में सबसे ज्यादा 50 मामले खूंटी में दर्ज हैं हैं वहीं रांची में 42, चाईबासा में 27, सरायकेला में 7, रामगढ़ और गुमला में 1-1 मामले दर्ज हैं।

इसके अलावा कुंदन पहन पर पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड समेत 128 मामले दर्ज हैं जिनमें मुख्य रूप से डीएसपी इंस्पेक्टर और कई पुलिसवालों की हत्या के भी मामले हैं कई सालों तक पुलिस के लिए चुनौती बने कुंदन पाहन ने 14 मई 2017 में रांची पुलिस के पास आत्मसमर्पण किया था इसी दौरान उसने अपने आबोहवा से यह बता दिया था कि और राजनीति के रण में भी अपनी किस्मत आजमाएगा बता दें कि रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड में आरोपी जेल में बंद पूर्व मंत्री गोपालकृष्ण पातर उर्फ राजा पीटर ने भी एनआईए कोर्ट में आवेदन देकर मंजूरी मिलने के बाद चुनाव लड़ा था और उसने झारखंड मुक्ति मोर्चा के गुरुजी शिबू सोरेन जैसे महारथी को तमाड़ विधानसभा चुनाव में पटकनी देकर जीत भी हासिल कर चौंका दिया था कुंदन पहन भी ठीक इसी जगह से चुनाव लड़ने जा रहा है।

बहरहाल कुंदन पाहन भी राजा पीटर की राह पर चल पड़ा है अब देखना है की जनता उसे कहां तक साथ देती है।

- Advertisement -

READ THIS ALSO

Jharkhand Varta

Related Articles

- Advertisement -

Latest Articles