हिंडालको कर्मी का कोरोना से मृत्यु महिला एवं कर्मचारियों ने हिंडालको कंपनी का तीन घंटा किया घेराव नारेबाजी भी लगाया गया

0

खबर:-प्रविन्द पाण्डे

मुरी:- 19 अप्रैल मुरी हिंडालको कर्मी श्रीकांत स्वेन उम्र (40) वर्ष मूलनिवासी उड़ीसा के रहने वाला। सोमवार को सुबह 10:00 बजे कोरोना से मृत्यु हो गई। जानकारी के अनुसार हिंडालको कर्मी मूलनिवासी (उड़ीसा )श्रीकांत स्वेन पिछले कई दिनों से कोरोना संक्रमित था। वह अपने आवास पर ही होम क्वॉरेंटाइन था। परंतु उसे समुचित इलाज व्यवस्था नहीं रहने के कारण वह सुबह 9:30 बजे अपने आवास से तड़पता हुआ बाहर निकला एवं गिर पड़ा। आनन-फानन में हिंडालको का एंबुलेंस उसे अस्पताल लेने के लिए पहुंचा परंतु उसे उठाने के लिए कोई भी आगे नहीं आया। तब उनके पत्नी एवं चालक ने किसी तरह उसे हिंडालको अस्पताल पहुंचाया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। उसके बाद स्थानीय महिलाओं एवं हिंडालको कर्मियों के द्वारा अस्पताल में समुचित व्यवस्था की मांग को लेकर कंपनी के अंदर घुस कर एचआर हेड हाय हाय का नारा लगाने लगे और मांग करने लगे। अस्पताल में किसी प्रकार की सुविधा ना होने से श्रीकांत की मृत्यु हुई है। इसका दोषी अधिकारीगण है। जो हमेशा कर्मचारी का शोषण करते आ रहे हैं। चिकित्सा सुविधा का नाम पर हम लोगों से खिलवाड़ किया गया है। इसे हम कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। अधिकारी हमारे सामने आए और हम लोगों से बातचीत करे नहीं तो हम इसी तरह नारेबाजी करते रहेंगे। अधिकारी के द्वारा मुरी ओपी एवं सिल्ली थाना को सूचना दिया गया। प्रशासन दल बल के साथ हिंडालको कंपनी पहुंची और लोगों को समझाने का प्रयास किया गया मगर वहीं कर्मचारी महिला एवं पुरुष तिन घंटे कंपनी का घेराव करके नारेबाजी करते रहे। अधिकारी सामने आते ही महिला एवं पुरुष का का गुस्सा अधिकारी के ऊपर टूट पड़ा जिससे अधिकारी को मारपीट भी करना शुरू कर दिया। किसी तरह से प्रशासन के द्वारा अधिकारी को बीच-बचाव किया गया और तब जाकर मामला शांत हुआ। प्रशासन के द्वारा आश्वासन दिया गया कि उचित जो करवाई होगा वह किया जाएगा।