हिंदपीढ़ी:मलेशिया से आई महिला कोरोना पॉजिटिव मिली थी वहां स्वास्थ्य विभाग की टीम को जाने से रोका

0

रांची: झारखंड के जिस हिंदपीढ़ी क्षेत्र से सबसे पहले म‍लेशिया की महिला कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी जो कि दिल्ली के निजामुद्दीन में मरकज में भाग लेकर 17 मार्च को यहां आई हुई थी। इसी के मद्देनजर जिला प्रशासन ने क्षेत्र में डोर टू डोर स्क्रीनिंग की योजना बनाई थी। गुरुवार को स्‍क्रीनिंग के लिए गई मेडिकल टीम का स्‍थानीय लोगों वार्ड पार्षद साजदा खातून के नेतृत्व में यह कर कर विरोध करना शुरू कर दिया कि इससे कोरोना का संक्रमण बढ़ जाएगा। मेडिकल टीम को गुरु नानक स्कूल के पास डोर टू डोर स्क्रीनिंग करने जाने से रोक दिया। इस बात की खबर मिलते ही रांची के ट्रैफिक एसपी अजित पीटर डुंगडुंग ने मौके पर पहुंचकर लोगों को समझाया। काफी जद्दोजेहद के बाद इलाके में स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीम घुसी और डोर टू डोर स्क्रीनिंग शुरू हुआ।पुलिस की तैनाती के साथ डोर टू डोर स्क्रीनिंग जारी रहने की खबर है।

गौरतलब है कि हिंदपीढी इलाके से ही मलेशियन मुस्लिम महिला को प्रशासन और पुलिस में ढूंढ निकाला था जो दिल्ली के निजामुद्दीन में मरकज जमात में भाग लेकर 17 मार्च को रांची नई दिल्ली रांची राजधानी एक्सप्रेस से पहुंची थी और यहां छिपी हुई थी। उसे प्रशासन में इलाज के लिए रिम्स में भर्ती कराया है।

इसके बाद इस क्षेत्र से कोरोना पाॅजिटिव मरीज पाए जाने के कारण हिंदपीढी और उससे सटे पूरे 3 किलोमीटर एरिया को सुरक्षित करने की योजना जिला प्रशासन ने बनाई थी।

इसी के तहत स्क्रीनिंग और सैनिटाइजिंग होनी है। कोरोना पॉजिटिव केस सामने आने के बाद पूरे हिंदपीढी को सील कर दिया गया है। इलाके में कर्फ्यू लगे होने के बावजूद स्वास्थ्य विभाग की टीम को विरोध का सामना करना पड़ा।

वार्ड पार्षद साजदा खातून का बयान समझ से परे बताया जाता है। उसने कहा कि फिलहाल क्षेत्र में इस बीमारी से कोई भी ग्रसित नहीं है। ऐसे में मेडिकल टीम एक-एक घर में जांच करने जाएगी तो बीमारी फैलने की संभावना है। इसी कारण से स्थानीय लोगों ने मेडिकल टीम को हिंदपीढ़ी क्षेत्र में प्रवेश करने से रोका है।

हालांकि साजदा खातून ने हिंदी पीढ़ी इलाके में सफाई व्यवस्था नहीं होने पर नाराजगी प्रकट की।साजदा खातून का कहना है‍ कि इस क्षेत्र में कोरोना से संक्रमित पॉजिटिव मरीज पाए जाने के बाद सफाईकर्मी भी डरे हुए हैं। जोनल सुपरवाइजर और मल्टी सुपरवाइजर भी हिंदपीढ़ी क्षेत्र में जाने से कतरा रहे हैं। हालांकि रांची नगर निगम के माध्यम से सैनिटाइजेशन का काम इंफोर्समेंट टीम की निगरानी में जारी है। उन्होंने कहा कि हिंदपीढ़ी क्षेत्र में कोरोना के पॉजिटिव मरीज पाए जाने के बाद पूरे क्षेत्र में दहशत कायम हैं। नगर निगम के अधिकारी भी सफाई की मुकम्मल व्यवस्था नहीं कर रहे हैं। हालात ऐसे ही रहे तो जल्द ही पूरे क्षेत्र में महामारी फैल जाएगी।