हेमंत सोरेन की जीत से क्यों खुश है कैदी नंबर -3351…

0

(झारखंड वार्ता स्पेशल:)[रिपोर्टर सतीश सिन्हा की कलम से] झारखंड में हेमंत सोरेन के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार बनने जा रही है इस सरकार का आम जनता को कितना फायदा मिलेगा यह तो वक्त बताएगा लेकिन हेमंत सोरेन की सरकार बनने से सबसे ज्यादा खुश होने की चर्चा रांची की एक जेल में बंद कैदी नंबर 3351 की है। बताया जाता है कि महागठबंधन की सरकार बनने के बाद उस कैदी को थोड़ी सहूलियत मिल जाएगी और वह जेल से ही अपने राजनीतिक रणनीति को कार्यान्वित करने के लिए आजाद होंगे। चलिए आपको बताते चलें कि आखिर वह शख्स कौन है वह है राजनीतिक कैदी बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव।

इसका वजह है यह बताया जा रहा है कि वर्ष 2013 के पूर्वार्ध में भारतीय जनता पार्टी की अर्जुन मुंडा की सरकार थी लेकिन उस वक्त राजनीतिक उथल-पुथल में 18 जनवरी 2013 को अर्जुन मुंडा की सरकार भी गिर गई थी और राष्ट्रपति शासन भी लगा था।

उसी वक्त लालू यादव चारा घोटाला के मामले में जेल गए तो उस वक्त उनके राजनीतिक शुभचिंतकों और परिजनों का लालू से मिलना जुलना लगा रहता। प्रतिदिन 60 -70 से लेकर 100 तक लोग उनसे मिलने आते थे। इसी दौरान हेमंत सोरेन भी लगभग 4 घंटों के लिए 2 बार उनसे मिलने गए लेकिन 28 दिसंबर 2014 में भारतीय जनता पार्टी की सरकार आ गई और सूबे के मुख्यमंत्री रघुवर दास चुने गए। उन्होंने लालू से मिलने वालों की भीड़ देखकर इसे नियमों का अवहेलना बताकर आदेश जारी किया कि सप्ताह में केवल तीन या चार लोग ही अब लालू से मिल सकते हैं। उनके इस आदेश का राष्ट्रीय जनता दल के नेताओं ने जमकर विरोध भी किया था।

वहीं 2019 के विधानसभा चुनाव में अब महागठबंधन की सरकार बनने जा रही है और मुख्यमंत्री के रूप में हेमंत सोरेन पदभार संभालने जा रहे हैं ऐसी स्थिति में चर्चा है कि लालू उनके सीएम बनने से सबसे ज्यादा खुश होंगे क्योकिं झारखंड में उनकी मनपसंद की सरकार आ रही है। इससे एक ओर उनको जेल में सहूलियत भी मिलेगी और उनकी पार्टी के लिए भी मौके बढ़ जाएंगे। हेमंत सोरेन और लालू के बीच रिश्ते अच्छे हैं। हेमंत पहले भी लालू यादव से जेल में मिलते रहे हैं। वहीं दूसरी ओर हेमंत सोरेन ने चुनाव जीतने के बाद लालू प्रसाद यादव, सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी और राहुल गांधी का भी धन्यवाद किया है।

बहरहाल अभी लालू प्रसाद यादव को लगभग एक साल और जेल में रहना होगा लेकिन परिस्थितियां उनके अनुकूल होने से उन्हें सहूलियत मिलने की संभावना है!