होटल मालिक विक्रम की हत्या सरकार की विफलता,शीघ्र गिरफ्तार हो आरोपी:पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश कुमार

0

जमशेदपुर: शहर के जुगसलाई स्टेशन रोड स्थित होटल एबी पैलेस परिसर में होटल मालिक सह ट्रांसपोर्टर विक्रम सिंह की हत्या के खिलाफ राजनीतिक सुर उठने लगे हैं। इसका मुख्य वजह बताया जा रहा है कि मृतक जनता पार्टी से जुड़े हुए थे। वहीं दूसरी ओर टुनटुन सिंह भी राजनीति से जुड़े हुए हैं उनकी पत्नी पूर्व जिला परिषद रह चुकी है। इधर जुगसलाई के होटल कारोबारी भाजपा कार्यकर्ता विक्रम सिंह की गोली मारकर हत्या के मामले में भारतीय जनता पार्टी के पूर्व जिला अध्यक्ष दिनेश कुमार ने हत्यारोपी को शीघ्र गिरफ्तार करने सहित लॉकडाउन के बावजूसे फ़ैली सनसनी से भाजपा ने जमशेदपुर में अनियंत्रित अपराध पर चिंता जाहिर किया है। पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश कुमार ने विक्रम सिंह के हत्यारों की अविलंब गिरफ्तारी और दमनात्मक कार्रवाई सुनिश्चित करने का आग्रह जिला पुलिस कप्तान से किया है। पूर्व जिलाध्यक्ष दिनेश कुमार ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देश पर लॉकडाउन लागू है। प्रशासन के पास सारा कंट्रोल है, किंतु अपराध पर नियंत्रण ना होना चिंताजनक विषय है।द अपराध अनियंत्रित होने पर चिंता प्रकट करते हुए कहा कि लॉकडाउन में प्रशासनिक कंट्रोल पूरे राज्य सरकार के अधीन है। इसके बावजूद अपराध बढ़ गए चिंता का विषय है। उन्होंने जिला पुलिस कप्तान से आरोपियों की अविलंब गिरफ्तारी की मांग की है। उन्होंने कहा कि पार्टी मज़बूती से स्व. विक्रम सिंह के परिजनों के साथ खड़ी है।

गौरतलब हो कि रविवार रात नौ बजे गोली मारकर हत्या करने का आरोपी एबी पैलेस के मालिक ओम नरायण सिंह उर्फ टुनटुन सिंह और उसका पुत्र फरार बताया जा रहा है।घटनास्थल से खोखे नहीं मिले हैं। पुलिस आरोपी को धर दबोचने के लिए छापामारी कर रही है। होटल को सील कर सीसीटीवी कैमरे खंगाले जा रहे हैं।विक्रम सिंह की मौत के बाद टीएमएच में तो हंगामा हुआ कि टुनटुन सिंह के होटल पर भी विक्रम के परिजनों एवं समर्थकों ने धावा बोल दिया। जमकर तोडफाेड की गई। हालात को काबू में करने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया।वहीं घटना से स्थानीय लोगों में काफी आक्रोश है। मौके पर पहुंचकर एसएसपी एम तामिल वानन समेत अन्य पुलिस अधिकारियों ने होटल परिसर में जाकर जांच की। वहां शराब की बाेतल पड़ी थी। दीवार पर रक्त के छींटे लगे थे। पुलिस ने देर रात टुनटुन सिंह, राजू सिंह समेत अन्य के घर पर छापेमारी की। कोई हाथ नहीं लगा। लोगों ने होटल में तोड़फोड़ भी की। भाजपा नेता धमेंद्र प्रसाद समेत कई लोग मौके पर पहुंचे। विक्रम सिंह भाजपा से भी जुड़ा था।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक मृतक स्टेशन रोड स्थित हरमिलाप मंदिर के पास रहने वाले कैलाश अपार्टमेंट का रहने वाला था। उसके उसके पिता की स्टेशन रोड में कैलाश रेसीडेंसी समेत अन्य अपार्टमेंट है। विक्रम सिंह कैलाश रेसीडेंसी की देखरेख करता था। कैलाश सिंह का निधन बहुत पहले हो चुका है।

घटना की जानकारी देते हुए विक्रम सिंह के रिश्तेदार प्रत्यक्षदर्शी ऋषभ ने बताया कि कैलाश सिंह के पुत्र अमर प्रताप सिंह जो वकील भी है को फोन कर टुनटुन सिंह के समधी जुगसलाई निवासी राजकुमार सिंह उर्फ राजूू ने एबी पैलेस में बुलाया। बकाया रुपये को लेकर बुलाया गया था। वहां टुनटुन सिंह, आदित्यपुर का एक व्यक्ति और राजू सिंह मौजूद थे। अमर प्रताप सिंह का बड़े-बड़े होटलों, बैंकों और अपार्टमेंटों में लगे जनरेटरों के मेंटनेंस का काम समेत अन्य काम है। अमर प्रताप सिंह उर्फ बाबा होटल में पहुंचे। वहां टुनटुन सिंह बातचीत करते हुए अमर प्रताप सिंह को अपने होटल के हाल से सटे अपने चैंबर की ओर ले गए। वहां दोनों के बीच बात हो रही थी। अचानक टुनटुन सिंह आक्रोशित हो गए। लाइसेंसी पिस्तौल निकाल ली। यह देख वहां मौजूद लोग बीच-बचाव करने लगे। अफरा-तफरी मची थी। गाली-गलौज जारी थी। अमर प्रताप सिंह ने अपने भाई संजू सिंह, विक्रम सिंह को फोन कर बुलााया। वह भी इनके साथ पहुंचा था। देखा कि टुनटुन सिंह पिस्तौल निकाल लहरा रहे थे। गोली मार देंगे कहते रहे। संजू सिंह ने उसके पकड़ने का प्रयास किया तो उस पर गोली चला दी, लेकिन गोली मिस फायर हो गई। दूसरी गोली चलाई जो विक्रम सिंह की छाती में जा लगी। इसके बाद सभी विक्रम सिंह को लेकर टीएमएच चले गए। मौका का फायदा उठाते हुए टुनटुन सिंह, उसके पुत्र और राजू सिंह भाग निकले। देर रात विक्रम सिंह की टीएमएच में मौत हो गई।रुपये के लेन-देन के विवाद में घटना हुई है। अब तक जानकारी मिली है कि टुनटुन सिंह के पास अमर प्रताप सिंह का रुपया बकाया था जिसको लेकर होटल में बातचीत हो रही थी। इस दौरान विवाद बढ़ता गया। टुनटुन सिंह ने गोलियां चलाई। गोली विक्रम सिंह को जा लगी।

बताया जाता है कि टुनटुन सिंह परसुडीह थाना क्षेत्र खासमहल स्थित राधिका नगर के कालोनी निवासी हैं और स्टेशन रोड स्थित सिंह होटल भी टुनटुन सिंह की बताई जाती है।टुनटुन सिंह की पत्नी अनिता सिंह पूर्वी सिंहभूम जिला परिषद का पूर्व उपाध्यक्ष रह चुकी हैं। हत्या की घटना के बाद से टुनटुन सिंह अपने पुत्र के साथ फरार है। पुलिस उनकी पत्नी से पूछताछ कर रही है। मोबाइल फोन भी उनकी पत्नी का खंगाला जा रहा है।