13 जनवरी : आज का पंचाग तथा राशिफ़ल

0

🌞 ~ आज का पंचांग ~ 🌞

⛅ दिनांक 13 जनवरी 2020

⛅ दिन – सोमवार

⛅ विक्रम संवत – 2076

⛅ शक संवत – 1941

⛅ अयन – दक्षिणायन

⛅ ऋतु – शिशिर

⛅ मास – माघ (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार – पौष)

⛅ पक्ष – कृष्ण

⛅ तिथि – तृतीया शाम 05:32 तक तत्पश्चात चतुर्थी

⛅ नक्षत्र – अश्लेशा सुबह 09:55 तत्पश्चात मघा

⛅ योग – प्रीति सुबह 07:26 तक तत्पश्चात आयुष्मान्

⛅ राहुकाल – सुबह 08:35 से सुबह 09:55 तक

⛅ सूर्योदय – 07:19

⛅ सूर्यास्त – 18:14

⛅ दिशाशूल – पूर्व दिशा में

⛅ व्रत पर्व विवरण – लोहड़ी पर्व (पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू – कश्मीर, संकष्ट चतुर्थी (चन्द्रोदय रात्रि 09:01)

💥 विशेष – तृतीया को परवल खाना शत्रुओं की वृद्धि करने वाला है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

🌷 मंगलवारी चतुर्थी 🌷

➡ 13 जनवरी 2020 मंगलवार को सूर्योदय से दोपहर 02:50 तक मंगलवारी चतुर्थी हैं ।

🌷 मंत्र जप व शुभ संकल्प की सिद्धि के लिए विशेष योग

🙏🏻 मंगलवारी चतुर्थी को किये गए जप-संकल्प, मौन व यज्ञ का फल अक्षय होता है ।

👉🏻 मंगलवार चतुर्थी को सब काम छोड़ कर जप-ध्यान करना … जप, ध्यान, तप सूर्य-ग्रहण जितना फलदायी है…

🌷 मंगलवारी चतुर्थी 🌷

🙏 अंगार चतुर्थी को सब काम छोड़ कर जप-ध्यान करना …जप, ध्यान, तप सूर्य-ग्रहण जितना फलदायी है…

🌷 > बिना नमक का भोजन करें

🌷 > मंगल देव का मानसिक आह्वान करो

🌷 > चन्द्रमा में गणपति की भावना करके अर्घ्य दें

💵 कितना भी कर्ज़दार हो ..काम धंधे से बेरोजगार हो ..रोज़ी रोटी तो मिलेगी और कर्जे से छुटकारा मिलेगा |

🌷 मंगलवार चतुर्थी 🌷

🙏🏻 मंगलवारी चतुर्थी के इस महा योग पर अगर मंगल ग्रह देव के 21 नामों से सुमिरन करें और धरती पर अर्घ्य देकर प्रार्थना करें,शुभ संकल्प करें तो आप सकल ऋण से मुक्त हो सकते हैं..

👉🏻मंगल देव के 21 नाम इस प्रकार हैं :-

🌷 1) ॐ मंगलाय नमः

🌷 2) ॐ भूमि पुत्राय नमः

🌷 3 ) ॐ ऋण हर्त्रे नमः

🌷 4) ॐ धन प्रदाय नमः

🌷 5 ) ॐ स्थिर आसनाय नमः

🌷 6) ॐ महा कायाय नमः

🌷 7) ॐ सर्व कामार्थ साधकाय नमः

🌷 8) ॐ लोहिताय नमः

🌷 9) ॐ लोहिताक्षाय नमः

🌷 10) ॐ साम गानाम कृपा करे नमः

🌷 11) ॐ धरात्मजाय नमः

🌷 12) ॐ भुजाय नमः

🌷 13) ॐ भौमाय नमः

🌷 14) ॐ भुमिजाय नमः

🌷 15) ॐ भूमि नन्दनाय नमः

🌷 16) ॐ अंगारकाय नमः

🌷 17) ॐ यमाय नमः

🌷 18) ॐ सर्व रोग प्रहाराकाय नमः

🌷 19) ॐ वृष्टि कर्ते नमः

🌷 20) ॐ वृष्टि हराते नमः

🌷 21) ॐ सर्व कामा फल प्रदाय नमः

🙏 ये 21 मन्त्र से भगवान मंगल देव को नमन करें ..फिर धरती पर अर्घ्य देना चाहिए..अर्घ्य देते समय ये मन्त्र बोले :-

🌷 भूमि पुत्रो महा तेजा

🌷 कुमारो रक्त वस्त्रका

🌷 ग्रहणअर्घ्यं मया दत्तम

🌷 ऋणम शांतिम प्रयाक्ष्मे

🙏 हे भूमि पुत्र!..महा क्यातेजस्वी,रक्त वस्त्र धारण करने वाले देव मेरा अर्घ्य स्वीकार करो और मुझे ऋण से शांति प्राप्त कराओ..

🌷 मकर संक्रांति 🌷

🙏🏻 आत्मोद्धारक व जीवन-पथ प्रकाशक पर्व – मकर संक्रांति (15 जनवरी 2020 बुधवार ) पुण्यकाल सूर्योदय से सूर्यास्त तक

🌞 जिस दिन भगवान सूर्यनारायण उत्तर दिशा की तरफ प्रयाण करते हैं, उस दिन नारायण (मकर संक्रांति) का पर्व मनाया जाता है | इस दिन से अंधकारमयी रात्रि कम होती जाती है और प्रकाशमय दिवस बढ़ता जाता है | उत्तरायण का वाच्यार्थ है कि सूर्य उत्तर की तरफ, लक्ष्यार्थ है आकाश के देवता की कृपा से ह्दय में भी अनासक्ति करनी है | नीचे के केन्द्रों में वासनाएँ, आकर्षण होता है व ऊपर के केन्द्रों में निष्कामता, प्रीति और आनंद होता है | संक्रांति रास्ता बदलने की सम्यक सुव्यवस्था है | इस दिन आप सोच व कर्म की दिशा बदलें | जैसी सोच होगी वैसा विचार होगा, जैसा विचार होगा वैसा कर्म होगा | हाड-मांस के शरीर को सुविधाएँ दे के विकार भोगकर सुखी होने की पाश्च्यात्य सोच है और हाड-मांस के शरीर को संयत, जितेन्द्रिय रखकर सदभाव से विकट परिस्थितियों में भी सामनेवाले का मंगल चाहते हुए उसका मंगलमय स्वभाव प्रकट करना यह भारतीय सोच है |

सम्यक क्रांति…. ऐसे तो हर महिने संक्रांति आती है लेकिन मकर संक्रांति साल में एक बार आती है | उसीका इंतजार किया था भीष्म पितामह ने | उन्होंने उत्तरायण काल शुरू होने के बाद ही देह त्यागी थी |

पुण्यपुंज व आरोग्यता अर्जन का दिन

🌞 जो संक्रांति के दिन स्नान नहीं करता वह ७ जन्मों तक निर्धन और रोगी रहता है और जो संक्रांति का स्नान कर लेता है वह तेजस्वी और पुण्यात्मा हो जाता है | संक्रांति के दिन उबटन लगाये, जिसमे काले तिल का उपयोग हो |

🌞 भगवान सूर्य को भी तिलमिश्रित जल से अर्घ्य दें | इस दिन तिल का दान पापनाश करता है, तिल का भोजन आरोग्य देता है, तिल का हवन पुण्य देता है | पानी में भी थोड़े तिल डाल के पियें तो स्वास्थ्यलाभ होता है | तिल का उबटन भी आरोग्यप्रद होता है | इस दिन सुर्योद्रय से पूर्व स्नान करने से १० हजार गौदान करने का फल होता है | जो भी पुण्यकर्म उत्तरायण के दिन करते हैं वे अक्षय पुण्यदायी होते हैं | तिल और गुड के व्यंजन, चावल और चने की दाल की खिचड़ी आदि ऋतु-परिवर्तनजन्य रोगों से रक्षा करती है | तिलमिश्रित जल से स्नान आदि से भी ऋतु-परिवर्तन के प्रभाव से जो भी रोग-शोक होते हैं, उनसे आदमी भिड़ने में सफल होता है |

🌞 सूर्यदेव की विशेष प्रसन्नता हेतु मंत्र

ब्रम्हज्ञान सबसे पहले भगवान सूर्य को मिला था | उनके बाद रजा मनु को, यमराज को…. ऐसी परम्परा चली | भास्कर आत्मज्ञानी हैं, पक्के ब्रम्ह्वेत्ता हैं | बड़े निष्कलंक व निष्काम हैं | कर्तव्यनिष्ठ होने में और निष्कामता में भगवान सूर्य की बराबरी कौन कर सकता है ! कुछ भी लेना नहीं, न किसी से राग है न द्वेष है | अपनी सत्ता-समानता में प्रकाश बरसाते रहते हैं, देते रहते हैं |

🌞 ‘पद्म पुराण’ में सूर्यदेवता का मूल मंत्र है : ॐ ह्रां ह्रीं स: सूर्याय नम: | अगर इस सूर्य मंत्र का ‘आत्मप्रीति व आत्मानंद की प्राप्ति हो’ – इस हेतु से भगवान भास्कर का प्रीतिपूर्वक चिंतन करते हुए जप करते हैं तो खूब प्रभु-प्यार बढेगा, आनंद बढेगा |

🌞 ओज-तेज-बल का स्त्रोत : सूर्यनमस्कार

सूर्यनमस्कार करने से ओज-तेज और बुद्धि की बढ़ोत्तरी होती है | ॐ सूर्याय नम: | ॐ भानवे नम: | ॐ खगाय नम: ॐ रवये नम: ॐ अर्काय नम: |….. आदि मंत्रो से सूर्यनमस्कार करने से आदमी ओजस्वी-तेजस्वी व बलवान बनता है | इसमें प्राणायाम भी हो जाता है, कसरत भी हो जाती है |

सूर्य की उपासना करने से, अर्घ्य देने से, सूर्यस्नान व सूर्य-ध्यान आदि करने से कामनापूर्ति होती है | सूर्य का ध्यान भ्रूमध्य में करने से बुद्धि बढती है और नाभि-केंद्र में करने से मन्दाग्नि दूर होती है, आरोग्य का विकास होता है |

🌞 आरोग्य व पुष्टि वर्धक : सूर्यस्नान

सूर्य की धूप में जो खाद्य पदार्थ, जैसे-घी, तेल आदि २ – ४ घंटे रखा रहे तो अधिक सुपाच्य हो जाता है | धूप में रखे हुए पानी से कभी –कभी स्नान कर सकते हैं | इससे सूखा रोग (Rickets) नहीं होता और रोगनाशिनी शक्ति बरक़रार रहती है |

🌞 सूर्य की किरणों से रोग दूर करने की प्रशंसा ‘अथर्ववेद’ में भी आती है | कांड – १, सूक्त २२ के श्लोकों में सूर्य की किरणों का वर्णन आता है |

मैं १५-२० मिनट सूर्यस्नान करता हूँ | लेटे–लेटे सूर्यस्नान करना और भी हितकारी होता है लेकिन सूर्य की कोमल धूप हो, सूर्योदय से एक-डेढ़ घंटे के अंदर-अंदर सूर्यस्नान कर लें | इससे मांसपेशियाँ तंदुरस्त होती हैं, स्नायुओं का दौर्बल्य दूर होता है | सूर्यस्नान का यह प्रसाद मुझे अनुभव होता है | मुझे स्नायुओं में दौर्बल्य नहीं है | स्नायु की दुर्बलता, शरीर में दुर्बलता, थकान व कमजोरी हो तो प्रतिदिन सूर्यस्नान करना चाहिए |

🌞 सूर्यस्नान से त्वचा के रोग भी दूर होते हैं, हड्डियाँ मजबूत होती हैं | रक्त में कैल्शियम, फ़ॉस्फोरस व लोहें की मात्राएँ बढती हैं, ग्रंथियों के स्त्रोतों में संतुलन होता है | सूर्यकिरणों से खून का दौरा तेज, नियमित व नियंत्रित चलता है | लाल रक्त कोशिकाएँ जाग्रत होती हैं, रक्त की वृद्धि होती है | गठिया, लकवा और आर्थराइटिस के रोग में भी लाभ होता है | रोगाणुओं का नाश होता है, मस्तिष्क के रोग, आलस्य, प्रमाद, अवसाद, ईर्ष्या-द्वेष आदि शांत होते हैं | मन स्थिर होने में भी सूर्य की किरणों का योगदान है | नियमित सूर्यस्नान से मन पर नियंत्रण, हार्मोन्स पर नियंत्रण और त्वचा व स्नायुओं में क्षमता, सहनशीलता की वृद्धि होती है |

🌞 नियमित सूर्यस्नान से दाँतों के रोग दूर होने लगते हैं | विटामिन ‘डी’ की कमी से होनेवाले सूखा रोग, संक्रामक रोग आदि भी सूर्यकिरणों से भगाये जा सकते हैं |

🌞 अत: आप भी खाद्य अन्नों को व स्नान के पानी को धूप में रखों तथा सूर्यस्नान का खूब लाभ लो |

दृढ़ संकल्पवान व साधना में उन्नत होने का दिन

🌞 उत्तरायण यह देवताओं का ब्राम्हमुहूर्त है तथा लौकिक व अध्यात्म विद्याओं की सिद्धि का काल है | तो मकर संक्रांति के पूर्व की रात्रि में सोते समय भावना करना कि ‘पंचभौतिक शरीर पंचभूतों में, मन, बुद्धि व अहंकार प्रकृति में लीन करके मैं परमात्मा में शांत हो रहा हूँ | और जैसे उत्तरायण के पर्व के दिन भगवान सूर्य दक्षिण से मुख मोडकर उत्तर की तरफ जायेंगे, ऐसे ही हम नीचे के केन्द्रों से मुख मोडकर ध्यान-भजन और समता के सूर्य की तरफ बढ़ेंगे | ॐ शांति …. ॐ आनंद …. ‘

🌞 रात को ‘ॐ सूर्याय नम: |’ इस मंत्र का चिंतन करके सोओगे तो सुबह उठते-उठते सूर्यनारायण का भ्रूमध्य में ध्यान भी सहज में कर पाओगे | उससे बुद्धि का विकास होगा |

आज का राशिफ़ल

मेष: आज आपका दिन बढ़िया रहेगा। कई दिनों से अटका हुआ पैसा आपको मिल सकता है। आर्थिक स्थिति में स्थिरता बनी रहेगी। छात्रों के लिए दिन बेहतर परिणाम लेकर आ सकता है। आपको कुछ जरूरी कार्यों में दोस्तों की मदद मिल सकती है। परिवार में सुखद वातावरण का महौल रहेगा। आपकी उलझनें कम होंगी। कला के क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए दिन खास रहेगा।

वृष: नौकरीपेशा लोगों के लिए आज का दिन आपके लिए बेहतरीन रहेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। आज आपको आपके परिवार में काफी खुशी मिलेगी। परिवार के लोगों के बीच अपनापन बढ़ेगा। दांपत्य जीवन में थोड़ा तनाव रह सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें। रोमांस का अवसर नहीं मिलेगा। कार्य पर अधिक ध्यान देना पड़ेगा।

मिथुन: आज कुछ मामलों में समाधान मिल सकता है। आपको कुछ मित्रों के सहयोग से तरक्की मिलने के योग बन रहे हैं। संपत्ति के बड़े सौदे बड़ा लाभ दे सकते हैं। प्रॉपर्टी के कार्यों के लिए समय अनुकूल है। रोजगार मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। घर-बाहर प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। कार्य का बोझ स्वास्‍थ्य को प्रभावित कर सकता है।

कर्क: स्टूडेंट्स को परीक्षा या साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। धन की प्राप्ति होगी। रचनात्मक कार्य पूर्ण होंगे। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। ऐश्वर्य के साधनों पर खर्च होगा। मातहतों का सहयोग प्राप्त होगा। प्रसन्नता बनी रहेगी। वस्तुएं संभालकर रखें। पारिवारिक काम को पूरा करने में घर के सभी सदस्यों का सहयोग प्राप्त हो सकता है।

सिंह: आज आपका दिन शानदार रहेगा। ऑफिस में सीनियर्स आपके काम से प्रसन्न होंगे। आप जिस भी काम को पूरा करना चाहेंगे, उसमें आपको सफलता हासिल होगी। किसी पुराने मित्र से मुलाकात हो सकती है। आप किसी बात को लेकर विचारों में खोए रहेंगे। घर पर किसी पार्टी के आयोजन का प्लान बना सकते हैं। छात्रों को शिक्षक की तरफ से विशेष मार्गदर्शन मिल सकता है।

कन्या: आज खर्चों में बढ़ोतरी हो जाएगी। आपके सुख में कमी आएगी। ऑफिस में आपके लिए स्थितियां बेहतर बनेंगे। आप अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। पारिवारिक गतिविधि में उलझ कर आप मानसिक रूप से काफी दबाव में रहेंगे। नौकरी में प्रमोशन मिल सकता है। परिवार के सदस्य सहयोग प्रदान करेंगे

तुला: आज आपका व्यवसाय ठीक चलेगा। निवेश के लिए दिन शुभ रहेगा। धनार्जन होगा। वाणी पर नियंत्रण रखने की जरूरत है। जोखिम उठाने और जल्दबाजी करने से बचें। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। पुराने भूले-बिसरे मित्र व संबंधियों से मुलाकात होगी। समाज में मान-सम्मान बढ़ेगा। प्रेम जीवन के लिए आज का दिन बहुत अच्छा रहेगा। आज के दिन की गई यात्रा काफी अनुकूल रहेगी।

वृश्चिक: बेरोजगारी की समस्या से छुटकारा मिलेगा। धन प्राप्ति होगी। यात्रा लाभदायक रहेगी। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। कोई अज्ञात भय सताएगा। शारीरिक कष्ट संभव है। दूसरों की बातों में न आएं, हानि हो सकती है। शेयरों में निवेश करने के लिए दिन अच्छा नहीं है। किसी भी मामले में आपको गुस्से में या जल्दबाजी में निर्णय नहीं लेना चाहिए।

धनु: आज आपको भाग्य का साथ मिलेगा। आपके सभी काम बन जाएंगे। आज किसी यात्रा पर भी जाने के योग बनेंगे। आपका दांपत्य जीवन आज बेहतर बनेगा और जीवन साथी से आपके संबंध सुधरेंगे। समाज में मान सम्मान बढ़ेगा। पिता जी से भी संबंध बेहतर बनेंगे। प्रेम जीवन आज कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। दूसरों से अपेक्षा न करें।

मकर: आज आपका दिन अच्छा रहेगा। आज आप सभी कार्यों में काफी हद तक सफल रहेंगे। आपका आर्थिक पक्ष पहले की अपेक्षा और भी बेहतर होगा। आय के नए स्रोत प्राप्त हो सकते हैं। महिलाओं को कोई खुशखबरी मिल सकती है। सामाजिक स्तर पर आपका रुतबा बढ़ सकता है। आपको माता-पिता का सहयोग मिलेगा। कई दिनों से ऑफिस का लंबित काम पूरा हो सकता है।

कुंभ: आज आपको कई मामलों में भाग्य का साथ मिल सकता है। आपकी कार्यशैली की प्रशंसा होगी। कोई पुरस्कार भी मिल सकता है। कोई बड़ा काम आपके हाथ आ सकता है। इस मौके को लपकें, ये आपकी तरक्की के लिए जरूरी है। अपने साथी को उनके सपनों को पूरा करने के लिए प्रोत्साहित करें। आपको मौसमी बीमारियों से थोड़ा परेशान होना पड़ सकता है।

मीन: आज आपका दिन सामान्य रहेगा। आपका मन सामाजिक कार्यों की तरफ हो सकता है। लोगों के बीच आपके काम की तारीफ हो सकती हैआपको पार्टनरशिप के ऑफर मिल सकते हैं। दांपत्य जीवन के लिहाज से दिन सामान्य रहेगा। कार्यक्षेत्र में आपको बहुत सारे कामों में अपना दिमाग खपाना पड़ेगा। अपने परिजनों या प्रियजनों की अनदेखी ना करें।