2000 रुपये की नौकरी से कैसे ओडिशा के कैलाश पात्रा ने बनाई 250 करोड़ टर्नओवर की कंपनी

0

हमें बार-बार आर्थिक रूप से परेशान किसानों द्वारा आत्महत्या करने की ख़बरें सुनने को मिलता है। जब भी इस तरह की कोई घटना होती है या इस मुद्दे पर जोर-शोर से बहस की जाती है, हम अपनी गंभीर चिंताओं को व्यक्त करते हैं और अधिकारियों से अपेक्षा करते हैं कि वे किसानों की पीड़ा को दूर करने के लिए नीतियों की रूपरेखा तैयार करेंगे। लेकिन हम शायद ही कभी उनके परिवारों के दुखों के बारे में बात करते हैं। उनका परिवार अपने जीवन के बाकी हिस्सों को किन कठिनाईयों में बिताती, वह अकल्पनीय है। यदि आपसे कोई कहे कि इसी तरह के निर्धन परिवार के एक व्यक्ति ने 250 करोड़ की कंपनी स्थापित कर ली, तो निश्चित तौर पर चौंक जाएंगें। लेकिन यह सच है और इसे साकार कर दिखाया है ओडिशा के कैलाश चंद्र पात्रा ने।

ओडिशा के एक ग़रीब-पीड़ित किसान परिवार में जन्में कैलाश के पिता एक छोटे किसान थे, जो धान की खेती किया करते थे। भारत में किसी भी अन्य छोटे पैमाने के किसान की तरह, कैलाश के पिता हमेशा कर्ज में डूबे रहे। जब स्थिति उसके हाथों से बाहर निकल गई, तो वे परिवार को छोड़कर भाग गए। कैलाश, उनकी माँ, तीन भाई और तीन बहनें एक छोटी झोपड़ी में आगे की कठिन ज़िंदगी से अपना संघर्ष जारी रखा। एक बेहतर भविष्य की उम्मीद के साथ उन्होंने गरीबी और अभावों से मुकाबला जारी रखा। बेहतर जीवन जीने के लिए कोई अन्य व्यावसायिक विकल्प नहीं होने से, कैलाश के लिए शिक्षा ही एकमात्र आशा थी। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा उसी झोपड़ी में रहकर पूरी की और ट्यूशन पढ़ाकर आगे की शिक्षा के लिए पैसे बचाना शुरू कर दिया। उच्च शिक्षा के लिए, वह एक व्यक्ति की मदद से कटक आ गए जिन्होंने उन्हें रहने के लिए बिना किराए के एक कमरे की व्यवस्था कर दी।

कैलाश ने पढ़ाई के साथ-साथ ट्यूशन लेना भी जारी रखा। उच्च अध्ययन पूरा करने के बाद, उन्होंने ट्यूशन लेना बंद कर दिया और एक विद्युत टर्नकी प्रोजेक्ट ठेकेदार के साथ काम पर लग गए। उन्होंने 2000 रुपये के मासिक वेतन पर काम किया, जिससे किसी तरह दो जून की रोटी हो पाती थी। साथ ही, कंपनी के मालिक का व्यवहार उनके कर्मचारियों के प्रति बेहद अपमानजनक था। अपने पूरे जीवन में भयानक परिस्थितियों में रहने के बाद, सम्मान उनके लिए पैसे कमाने जितना ही महत्वपूर्ण था। अपने दम पर कुछ करने का विचार उनके दिमाग में था, लेकिन आर्थिक तंगी के चलते उन्होंने उस ओर कदम नहीं बढ़ाया। लगभग दो वर्षों तक पहली कंपनी में काम करने के बाद, कैलाश ने नौकरी छोड़ दी और एक दवा कंपनी में बिक्री कार्यकारी के रूप में शामिल हो गए। एक साल बाद फिर से, कैलाश ने नौकरी की संतुष्टि की कमी के कारण अपनी नौकरी छोड़ दी और फिर, एक इलेक्ट्रॉनिक्स ट्रेडिंग कंपनी में शामिल हो गए, जिसे उन्होंने चार साल बाद अपना स्वयं का कोई धंधा करने के लिए छोड़ दिया।

नौकरी छोड़ने के बाद, कुछ समय के लिए, कैलाश अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने या नौकरी करने को लेकर असमंजस में रहे, लेकिन जल्द ही उन्होंने अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने का फैसला किया। उन्हें इलेक्ट्रॉनिक्स में ट्रेडिंग का अच्छा अनुभव था, लेकिन उनके पास महंगे इलेक्ट्रॉनिक सामानों में निवेश करने के लिए पैसे नहीं थे। उन्होंने एक 40 वर्ग फुट की दुकान किराए पर ली और टीवी एंटीना और बूस्टर डिवाइस जैसी सस्ती इलेक्ट्रॉनिक उपयोगिताओं को बेचना शुरू कर दिया। व्यवसाय शुरू करने के लिए, उन्होंने दुकान के मालिक को प्रति माह 300 रुपये का किराया दिया।