4 दिन के बाद प्रशासन को मिली सफलता, दरोगा सिंह का शव बरामद….

0

खबर:- सरिता देवी

गढ़वा:- मझीआंव व मेराल थाना क्षेत्र के सिवाना स्थित बाजूडीह गांव निवासी 50 वर्षीय दरोगा सिंह का आखिरकार पांचवां दिन गायब दरोगा सिंह का शव कोयल नदी के बीच धार से पुलिस ने बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया। इस संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार मेराल थाना पुलिस द्वारा पूर्व से लिए गए।

हिरासत में उक्त गांव के ही नंदकिशोर सिंह उर्फ नंदा सिंह एवं अमेरिका पासवान के निशानदेही पर गायब दरोगा सिंह का शव पूरी रात खोजा गया। हालांकि गढ़वा एसडीपीओ के नेतृत्व में मेराल पुलिस द्वारा मंगलवार को कोयल नदी के बीच धार से

शव को बरामद करने में सफलता हासिल कर ही लिया।

शव मिलने की खबर गांव सहित आसपास के ग्रामीण नदी की ओर टूट पड़े। बताया जा रहा है। कि पिछले 12 फरवरी 2021 की लगभग दिन के 10:00 बजे दरोगा सिंह अपने खेत में गोबर युक्त राख मान फेंक रहे थे। इसी दौरान नंदकिशोर सिंह उर्फ नंदा सिंह उसके घर पहुंचे हैं। और कोयल नदी में मछली मारने के लिए गए थे। और साथ में गांव के ही अमेरिका पासवान भी था।

ये तिनो व्यक्तियों ने बिजली के तार से मछली मार रहे थे। इसके बाद दरोगा सिंह को छोड़कर अमेरिका पासवान एवं नंदकिशोर सिंह उर्फ नंदा सिंह अपने घर आ गए। देर शाम तक नहीं आने पर दरोगा सिंह की पत्नी व स्वजन उन्हें पता लगाया लेकिन कोई अता पता नहीं चल सका। इधर कयास लगाया जा रहा था कि संभवत बिजली के करंट से मछली मारने के दौरान दरोगा सिंह की मौत हो गई होगी।

इसके बाद उनके दो अन्य सहयोगियों के द्वारा शव को नदी के बीच धार में फेंक दिया होगा। लगातार पुलिस गायब दरोगा सिंह का शव जिंदा या मुर्दा बरामद करने के लिए अथक प्रयास में जुटी थी। इधर पुलिस की शिथिलता के कारण ग्रामीणों ने गत सोमवार को बाजूडीह गांव स्थित मझीआंव व गढ़वा मुख्य पथ जाम कर दिया था।

सूचना पाते ही गढ़वा एसडीपीओ बहामन टुटी, मझीआंव पुलिस निरीक्षक अशोक सिंह, मेराल प्रखंड विकास पदाधिकारी गौतम कुमार, मेराल थाना प्रभारी योगेंद्र कुमार एवं मझीआंव थाना प्रभारी सुधांशु कुमार जाम स्थल पर पहुंचकर आक्रोशित ग्रामीणों को यकीन ही नहीं बल्कि भरोसा दिलाते हुए कहा था कि 24 घंटे का हम लोगों को मोहलत दीजिए।

आश्वासन के महज 16 घंटे बाद हिरासत में लिया गया आरोपी के निशानदेही पर बाजूडीह गांव से सटे स्थानीय कोयल नदी के पानी के बीचो बीच धार में दरोगा सिंह का शव देखा गया ।शव घर लाते ही मृतक दरोगा सिंह की पत्नी अर्पणा देवी परिजन एवं ग्रामीण शव को एक नजर देखकर लोगों के आंख से आंसू थमने का नाम नहीं ले रहा था।

वहीं पिडी़त पत्नी एवं उनके बाल बच्चे दिहाड़ मार कर रोने लगे। इसके बाद पुलिस ने शव को कब्जे में कर पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया। इधर प्रखंड विकास पदाधिकारी गौतम कुमार ने तत्काल मृतक दरोगा सिंह के पीड़ित पत्नी के नाम से एक अंबेडकर आवास, विधवा पेंशन दाह संस्कार के लिए नगद 10 हजार रुपए राशि उपलब्ध कराया और साथ ही उन्होंने भरोसा दिलाते हुए कहा कि अविलंब मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के बाद परिवारिक लाभ योजना के अंतर्गत 20 हजार रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। और साथ ही अन्य सहयोग दिलाने के लिए सरकार से पत्राचार किया जाएगा।

मौके पर मौजूद पंचायत सचिव सुरेंद्र सिंह को वीडियो ने मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने का निर्देश दिया। वहीं मेराल भीएलडब्ल्यू सतीश कुमार सिंह एवं ओखड़गाड़ा पूर्वी पंचायत के मुखिया शोभा देवी मौजूद थी।