लोहरदगा: साईं नर्सिंग होम के संचालक पिंटू सिंह ने कहा कोविड चक्र के खिलाफ लड़ाई मजबूत करें

0

लोहरदगा शहरी क्षेत्र के चेकनाका के समीप स्थित साईं नर्सिंग होम में शनिवार को दस लोगों ने कोविड-19 का वैक्सीन का पहला डोज लिया। साईं नर्सिंग होम के कोविड इंचार्ज डॉ दिनेश कुमार की देखरेख में प्रशिक्षित नर्स सरिता सोनी और नीलू कुमारी के द्वारा अपर बाजार के मारवाड़ी समाज 58 वर्ष से लेकर 82 वर्ष की महिला-पुरूषों ने वैक्सीनेशन कराया और कोरोना के चक्र के खिलाफ लड़ाई मजबूत कीं। वैक्सीन लेने वालों में 76 वर्षीय पुष्पा देवी, 71 वर्षीय शिव पोद्दार, 64 वर्षीय सुमित्रा पोद्दार, 63 वर्षीय सीता पोद्दार, 64 वर्षीय चम्पा चौधरी, 72 वर्षीय बसंती देवी, 61 वर्षीय प्रमोद पोद्दार, 82 वर्षीय रेवती देवी, 58 वर्षीय कमला देवी, 62 वर्षीय मुद्रिका प्रसाद सिंह आदि शामिल थे। वैक्सीन लेने के बाद सभी लोग आधे घंटे तक रेस्ट किया। इस दौरान किन्हीं को भी किसी प्रकार की परेशानी महसूस नहीं हुई। 82 वर्षीय रेवती देवी ने कहा मुझे इस दिन का बेसब्री से इंतजार था। साईं नर्सिंग होम में इसके लिए खास व्यवस्था दिखी। मुझे वैक्सीन लेने के लिए किसी प्रकार हिचक नहीं था। मैंने पहला डोज लिया है। उम्मीद करती हूं कि और भी महिलाएं इसके लिए आगे आएगी। 71 वर्षीय शिव पोद्दार ने वैक्सीन लिया औा कहा इसे लेने के बाद किसी प्रकार का साइड इफेक्ट महसूस नहीं हुआ। मेरी अपील है कि अधिक से अधिक लोग वैक्सीन लेने के लिए सामने आए। ताकि व्यक्ति और समाज दोनों को सेफ करने में मदद हो। 64 वर्षीय सुमित्रा पोद्दार यह मेरा खुद का निर्णय था कि वैक्सीन लेना है। पहले सोचते थे कि इसे लेने का अनुभव कैसा होगा। लेकिन अब लग रहा है कि इसे लेने में कोई कठिनाई नहीं है। घर के काम से अलावा समाज की भी परवाह करें। महिलाएं और घर से निकलकर वैक्सीन सेंटर तक आएं। मौके पर साईं नर्सिंग होम के संचालक आशीष कुमार सिंह (पिंटू सिंह) ने कहा कि कोविड वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित हैं और यह स्वदेशी है। लोगों को पूरे भरोसे के साथ वैक्सीन लेना चाहिए। कोरोना की लड़ाई में आगे बढ़कर जिलावासियों को साथ देना चाहिए। किसी तरह का मन में भ्रम नहीं पालना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार के द्वारा निर्धारित शुल्क 250 रूपए में प्रतिदिन वैक्सीन देने का कार्य किया जा रहा है। इस अवसर पर सीवीसी मैनेजर संदीप कुमार सिंह, अयुषमान मित्र रमिन्द्र कुमार सिंह आदि मौजूद थे।