Lockdown के मद्देनजर सीएम हेमंत सोरेन ने खाद्यान्न सहित किन उपायों पर की चर्चा देखें….

0

रांची: कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए पूरे देश में लॉकडाउन है। ऐसी स्थिति में झारखंड वासियों को खाद्यान्न आपूर्ति में किसी तरह की कठिनाई ना हो इसके लिए गुरुवार देर शाम मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने स्थिति का जायजा लिया और आला अधिकारियों के साथ बैठक की।

बैठक में उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि राज्य के 9 लाख अंत्योदय परिवार सहित 57 लाख कार्डधारी परिवारों तक समय पर खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए सुव्यवस्थित व्यवस्था की जाए।

साथ ही सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि पूरे लॉकडाउन के दौरान राज्य से बाहर किसी तरह के खाद्यान्न ना भेजा जाए, इस पर अधिकारी पूरी निगरानी करें।खाद्यान्नों में आलू प्याज सहित सभी तरीके के खाद्य पदार्थ शामिल हैं।

सीएम ने आदेश देते हुए कहा कि प्रखंडवार पीडीएस दुकानों द्वारा खाद्यान्न का उठाव और वितरण कार्यों का जियो टैगिंग के साथ-साथ पोर्टल पर फोटो अपलोड करने की व्यवस्था जल्द तैयार करें।

इसके लिए जिले के डीसी को मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि जन वितरण प्रणाली दुकानों का प्रतिदिन मॉनिटरिंग करें।पीडीएस दुकानें कम से कम 12 घंटे कार्यरत रहें।सभी लाभुकों को 2 महीने का एडवांस राशन देना सुनिश्चित करें।मुख्यमंत्री ने कहा है कि आपदा की इस स्थिति में कोई भी किराना दुकान बंद ना हो यह सुनिश्चित कराएं। जरूरत पड़ने पर किराना दुकान के आसपास होमगार्ड के जवानों की तैनाती करें।कोरोना वायरस से उत्पन्न संकट के इस स्थिति में जल्द ही एक मैकेनिज्म तैयार हो, ताकि खाद्यान्न के साथ-साथ पीडीएस दुकानों में आम जनता के लिए चूड़ा, गुड़, चना, आलू, प्याज इत्यादि भी वितरण किये जायें।दुकानों में राशन लेने के दौरान स्थिति पैनिक ना बने इसके लिए हर संभव प्रयासरत रहें।कोरोना वायरस के मद्देनजर एक राज्य स्तरीय समिति का गठन किया गया है।

बैठक में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, मुख्य सचिव डॉ डीके तिवारी, अपर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह सहित कई अधिकारी उपस्थित थे।मुख्यमंत्री ने कहा कि आपदा की इस घड़ी में आम जनता को किसी प्रकार की परेशानी ना हो यह हम सभी की प्राथमिकता होनी चाहिए।सरकार द्वारा इस संकट की घड़ी में किए जा रहे कार्यों का पूरा लाभ एक-एक परिवार तक पहुंचे यह सुनिश्चित किया जाये।

उन्होंने निर्देश दिया कि राज्य भर के सभी थाने में सेंट्रलाइज्ड किचन की व्यवस्था सुनिश्चित किया जाये। इससे भूखमरी जैसी नौबत नहीं आयेगी और आम जनता की वास्तविक परेशानियों का फीडबैक भी सामने आयेगा।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि राज्य भर में जितने भी वृद्धा पेंशन, दिव्यांग पेंशन, विधवा पेंशनधारी लोग हैं उन्हें मार्च और अप्रैल माह का पेंशन एडवांस में उपलब्ध करायें ताकि विपदा की इस घड़ी में वे अपना जीवन यापन ठीक से कर सकें।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे राहत कार्यों का सही तरीके से समिति मॉनिटरिंग करें।सभी आला अधिकारी स्ट्रक्चर तैयार कर कार्य करें। वे अपने-अपने विभागों द्वारा किए जा रहे कार्यों की प्रतिदिन मॉनिटरिंग करें और आपसी समन्वय बनाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोनावायरस जैसी आपदा से निपटने के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार होनी चाहिए. लोगों को बल्क एसएमएस, व्हाट्सएप, फेसबुक, एफएम रेडियो इत्यादि के जरिए जागरूक करें।

सूचना एवं जनसंपर्क विभाग प्रतिबद्धता के साथ प्रचार-प्रसार का कार्य करे।प्रत्येक विभाग के पास प्रचार प्रसार के लिए राशि आवंटित है उसका उपयोग अवश्य करें।

स्वास्थ्य विभाग अधिक से अधिक टेस्ट किट एवं मशीन इत्यादि का व्यवस्था व्यापक स्तर पर पूरे राज्य के लिए करें। किसी भी व्यक्ति को अगर टेस्ट कराने जैसी स्थिति होती है तो जल्द टेस्ट हो सके इसके लिए मैकेनिज्म तैयार करें।

मुख्यमंत्री ने राज्य भर के अस्पतालों इत्यादि जगहों में बने क्वारंटाइन व आइसोलेशन वार्ड में मरीजों को रखने की व्यवस्था को दुरुस्त रखने का निर्देश दिया।

उन्होंने कहा की वार्डों में साफ-सफाई सैनेटाइजर एवं डॉक्टर व स्टाफ नर्स की व्यवस्था सप्ताह के सातों दिन 24 घंटे दुरुस्त हों।